Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 20 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जल्द ही पूरे प्रदेश में ब्लॉक स्तर पर श्रमिक मित्र रखे जाएंगे- नायब सैनी

राज्य मंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में प्रदेश की 60 हजार श्रमिकों महिलाओं को सिलाई मशीने उपलब्ध करवाई जाएगी।

Worker friends will be kept at Block level, Nayab Saini, naya haryana, नया हरियाणा

23 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री नायब सिंह सैनी ने कहा कि जल्द ही पूरे प्रदेश में ब्लॉक स्तर पर श्रमिक मित्र रखे जाएगें। जोकि श्रम कल्याण बोर्ड की विभिन्न योजनाओं का लाभ दिलाने में श्रमिकों की मदद करेगें। राज्य मंत्री ने यह जानकारी नारायणगढ की नई अनाज मण्ड़ी में आयोजित अन्तोदय मेला, श्रमिक जागरूकता एवं सम्मान समारोह को बतौर मुख्यतिथि सम्बोंधित करते हुए दी। इस समारोह की अध्यक्षता सांसद रतन लाल कटारिया ने की। समारोह का शुभारम्भ दीप प्रज्जवलन के साथ किया गया। 

     इस समारोह में नारायणगढ विधानसभा क्षेत्र की श्रम विभाग में पंजीकृत 425 महिला श्रमिकों को सिलाई मशीनें वितरित की गई। राज्य मंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में प्रदेश की 60 हजार श्रमिकों महिलाओं को सिलाई मशीने उपलब्ध करवाई जाएगी। जिनमें से 55 हजार सिलाई मशीने वितरित की जा चुकी है। ये मशीनें ऐसे श्रमिकों को दी गई हैं, जोकि न्यूनतमएक वर्ष से नियमित तौर से विभाग में पंजीकृत है। 

     इसके साथ ही श्रमिकों के लिए सरकार की मातृत्व लाभ योजना, पितृत्व लाभ, छात्रावृति लाभ, कन्यादान योजना, टुल सहायता, लडक़ी विवाह सहायता, साईकिल खरीद योजना, मुख्यमंत्री महिला निर्माण श्रमिक सम्मान योजना, मृत्यु सहायता, अंतिम संस्कार सहायता, विकलांग वितिय सहायता तथा लडक़े की विवाह सहायता सहित योजनाओं के तहत 1509 श्रमिकों को 1 करोड़ 80 लाख 54 हजार 800 रुपये की राशि सभी लाभार्थियों के खाते में डाली जा रही है जोकि उनके खातों में पहुंच जाएगी। 

       राज्य मंत्री नायब सैनी ने कहा कि साढे चार साल में नारायणगढ़ हलके में यह तीसरा इस प्रकार का समारोह है जोकि श्रमिकों को लाभ पहुंचाने के लिए आयोजित किया गया है। इससे पूर्व भी इस प्रकार के दो श्रमिक मेले नारायणगढ और शहजादपुर में आयोजित किये जा चुके है। उन्होंने कहा कि गत वर्ष नारायणगढ अनाज मण्डी में ही आयोजित इस प्रकार के समारोह में 625 महिला श्रमिकों को सिलाई मशीने बांटी गई थी और 2 हजार 383 श्रमिकों को 1 करोड़ 31 लाख 87 हजार रुपये की राशि का लाभ लाभार्थियों को दिया गया था। शहजादपुर में आयोजित मेले में 577 सिलाई मशीने वितरित की गई थी और एक करोड़ 69 लाख 51 हजार का की राशि श्रमिकों को उनके खातों के माध्यम से लाभ पहुंचाया गया था। उन्होंने कहा कि हरियाणा के गठन के बाद यह पहली बार है कि इस प्रकार के मेलों का आयोजन पूरे प्रदेश में किया जा रहा है। 

       उन्होंने कहा कि श्रमिकों को मजबूत सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हमेशा प्रयासरत रहते हैं, उनकी सोच गरीब एवं कमजोर व्यक्ति को मुख्यधारा में शामिल करने की होती है। इसी दिशा में काम करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में सरकार भी श्रमिकों के उत्थान के लिए अनेक योजनाएं बना रही है, जिनसे मजदूर वर्ग लाभांवित हो रहा है।‘उन्होने कहा कि अंग्रेजों के जमाने के श्रम कानूनों का सरलीकरण और सुधारीकरण किया गया है। उन्होने कहा कि आज का आयोजन भी श्रमिकों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने तथा अन्य जानकारी उपलब्ध करवाने हेतु किया गया है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के मेले प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भी हरियाणा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड श्रम विभाग हरियाणा द्वारा आयोजित किये गये है। हमारी सरकार के दौरान अभी तक 650 करोड़ रूपये की राशि का लाभ बोर्ड की सभी 24 योजनाओं के तहत दिया गया है, जबकि कांगे्रस के दस सालों के शासन के दौरान मात्र 19841 श्रमिकों को 28.55 करोड़ रूपये की सहायता प्रदान की गई थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस व इनेलों के शासन में श्रमिकों एवं अन्य वर्गो का शोषण हुआ और उनके हितों की अनदेखी की गई। 

     श्रम राज्य मंत्री नायब सिहं सैनी ने कहा कि अम्बाला लोकसभा क्षेत्र में 61692 श्रमिक पंजीकृत है। जिनमें से 34984 लाभार्थीयों को 39 करोड़ 44 लाख 80 हजार 30 रूपये का लाभ विभिन्न स्कीमों में दिया गया है। इसी प्रकार पंजीकृत श्रमिक महिलाओं को 4593 सिलाई मशीने वितरित की जा चुकी है। 

                सबका साथ, सबका विकास’ के सिद्धांत पर चलते हुए सरकार द्वारा पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को कार्य के दौरान किसी दुर्घटना से अपंग होने पर सहायता राशि बढ़ाया गया है। पहले यह राशि अपंगता के अनुपात में 1 से 2 लाख रूपये दी जाती थी, जिसको बढ़ाकर सरकार ने 1.5 से 3 लाख रूपये कर दिया है। पंजीकृत श्रमिक की मृत्यु होने पर 5 लाख रुपये तथा अपंजीकृत को 2.5 लाख रुपये की सहायता राशि देने का प्रावधान किया है।  

                   श्रमिकों की अपंगता पैंशन को 300 रुपये से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रति मास किया गया है। सरकार ने कन्यादान योजना के तहत पंजीकृत श्रमिकों को दी जाने वाली 51 हजार रुपये सहायता राशि शादी से 3 दिन पहले ही देने का प्रावधान किया है तथा शादी की तैयारियों के लिए 50 हजार रूपये देने का प्रावधान किया है। कुल एक लाख एक हजार रूपये की राशि श्रमिक की लडक़ी की शादी में दी जा रही है। सरकार द्वारा श्रमिकों के बच्चों को आईआईटी, एम्स व अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई करने का पूरा खर्च देने की व्यवस्था की है। श्रमिकों के बच्चों की पढाई पर छात्रवृति दी जा रही है। इसके अलावा श्रमिक बहनों को मातृत्व भत्ता के तौर पर 36 हजार रुपये की सहायता देने का प्रावधान किया है। श्रमिकों के जीवन स्तर को उठाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में अनेक कदम उठाए गये हैं। उन्होंने कहा कि पंजीकृत श्रमिकों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलेगा। 

       इस अवसर पर सांसद रतन लाल कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में पिछले लगभग पांच साल में देश के 22 करोड़ लोगों को 425 स्कीमों के तहत साढे पांच लाख करोड़ रूपये का डायरैक्ट बैनिफिट दिया जा चुका है। उन्होने अन्तोदय मेला श्रमिक जागरूकता एवं सम्मान समारोह के सफल आयोजन के लिए राज्य मंत्री नायब सैनी की प्रंशसा करते हुए कहा कि श्रमिकों को जो लाभ वर्तमान सरकार में मिल रहे है पहले कभी नहीं मिले यह सब राज्य मंत्री नायब सैनी तथा मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कार्यशैली के कारण ही सम्भव हो पाया है। उन्होने कहा कि सरकार महिला सशक्तिकरण की ओर विशेष ध्यान दे रही है। बजट में भी 75 हजार करोड रूपये का प्रावधान महिलाओं के सैल्फ हैल्प ग्रुपों के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि उज्जवला योजना में देश की 8 करोड़ महिलाओं को गैस कनैक्शन दिये जा रहे है। 

          सांसद कटारिया ने पुलवामा में हुए आंतकी हमले का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की जनता को विश्वास दिलाया है कि आंतकी संगठनों और उनके सरपरस्तों के खिलाफ कड़ी कारवाई करने के लिए सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दी है और इस हमले के पीछे जो भी गुनहागार है,उन्हेें उनके किये कि अवश्य सजा दी जाएगी। उन्होने कहा कि भारत ने विश्व स्तर पर डिपलोमेटिक गतिविधियां शुरू कर दी है और सख्त कदम उठाते हुए पाकिस्तान से व्यापार में मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है। भारत से पाकिस्तान की ओर जाने वाले अपने हिस्से के रावी, सतलुज और ब्यास नदियों का पानी को भी रोक कर पाक को सबक सीखाने का निर्णय सरकार ने ले लिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 24 फरवरी को गोरखपुर यूपी से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का शुभारम्भ करेगें। उन्होने कहा कि असंगठित क्षेत्र में कार्यरत 18 वर्ष से 40 वर्ष तक की आयु के मजदूरों का ‘प्रधानमन्त्री श्रम योगी मान-धन’ (पी.एम.एस.वाई.एम) पेंशन योजना में पंजीकरण का कार्य शुरू कर दिया गया है। 

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को 60 वर्ष की उम्र के बाद न्यूनतम 3,000 रूपये प्रति माह की पेंशन दिए जाने का प्रावधान किया गया है। इसमें घरेलू नौकर, रेहड़ी-पटरी कामगार, मध्याह्न भोजन कामगार, ईंट-भ_ा मजदूर, मोची, धोबी, रिक्शा चालक, भूमिहीन मजदूर और निर्माण क्षेत्र में काम कर रहे मजदूर शामिल होंगे।

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत 15,000 रूपये तक मासिक आय वाले असंगठित क्षेत्र में कार्यरत मजदूरों को न्यूनतम 3,000 रूपये मासिक पेंशन दी जायेगी। इसके लिये मजदूरों को उनकी उम्र के हिसाब से अपना मासिक योगदान देना होगा और उतनी ही रकम का योगदान सरकार अपनी तरफ से देगी।


बाकी समाचार