Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 1 मार्च 2021

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

अपने दादा सरदार दत्तर सिंह की विरासत सम्भालने करनाल आ रही हैं मेनका गांधी!

लगातार 7 बार रह चुकी हैं सांसद, पीलीभीत में अब पुत्र वरुण संभालेंगे विरासत।

The legacy of his grandfather Sardar Datar Singh, Karnal is coming, Maneka Gandhi, naya haryana, नया हरियाणा

21 फ़रवरी 2019



ऋषि पांडे

हरियाणा की करनाल लोकसभा सीट पर बीजेपी एक चौंकाने वाला उम्मीदवार उतार सकती है. रिपोर्ट्स की मानें तो केंद्रीय मंत्री और 7 बार की सासंद मेनका गांधी करनाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ सकती हैं. हालांकि इस बारे में अभी आधिकारिक एलान होना बाकी है.

दरअसल, मेनका गांधी के करनाल में पारिवारिक संबंध हैं. मेनका गांधी के दादा सरदार दत्तर सिंह भारत-पाकिस्तान के विभाजन के बाद करनाल आकर ही बसे थे. दत्तर सिंह को भारत को भारत में पहले डेयरी फार्म आंदोलन का जनक भी माना जाता है.

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक मेनका गांधी के दादा की वहां संपत्ति है, जो कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री लियाकत अली खान ने उन्हें बॉर्डर पार करने पर दी थी. रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि मेनका गांधी करनाल के लिए नई नहीं है, क्योंकि उनके परिवार के सदस्य आज भी वहां रहते हैं.

वहीं बीजेपी भी करनाल के सासंद अश्विनी मिन्ना का विकल्प खोज रही है. अश्विनी मिन्ना पंजाब केसरी ग्रुप के मालिक हैं. बीजेपी हाल ही में पंजाब केसरी अखबार में प्रियंका गांधी की तारीफ में छपे ऑर्टिकल्स से खुश नहीं है.

मेनका गांधी को करनाल से उम्मीदवार बनाने का फैसला अब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी के पाले में है. अगर मेनका गांधी करनाल से उम्मीदवार बनती हैं, तो उनके बेटे वरुण गांधी पीलीभित से उम्मीदवार बनाया जाएगा.

<?= The legacy of his grandfather Sardar Datar Singh, Karnal is coming, Maneka Gandhi; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

 हरियाणा के सीएम और करनाल से विधायक मनोहर लाल खट्टर मेनका गांधी को करनाल से उम्मीदवार बनाने के लिए तैयार हैं. मनोहर लाल खट्टर का इस पर आधिकारिक बयान आना अभी बाकी है. मेनका गांधी पहले ही कह चुकी हैं कि वह हरियाणा के लिए बाहरी नहीं है, क्योंकि उनके परिवार के सदस्य आज भी वहां रहते हैं.

बता दें कि हरियाणा में लोकसभा की 10 सीटें हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हरियाणा की 10 में से 7 सीटों पर कामयाबी मिली थी. आईएनएलडी 2 और कांग्रेस एक सीट जीतने में कामयाब हुई थी.

 


बाकी समाचार