Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 19 अगस्त 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

जींद उपचुनाव में करारी हार के बाद इनेलो की सभाएं और सफाइयां कितनी कारगर होंगी!

इनेलो अपने अस्तित्व को लेकर जद्दोजहद करती हुई प्रतीत हो रही है.

After the defeat of the Jind by-election, how many INLD meetings and elections will be effective, naya haryana, नया हरियाणा

12 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

साइबर सिटी गुरुग्राम में हुई इनेलो की जिला स्तरीय मीटिंग  जिसमें इनेलो के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत और गुरु ग्राम जिला स्तरीय तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे. इस मीटिंग का कारण आगामी 20 तारीख को बिलासपुर में होने वाली जनसभा है जिसमें इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला शाम 4:00 बजे शिरकत करेंगे और गुरुग्राम के कार्यकर्ता और गुरुग्राम की जनता से अपने विचार विमर्श करेंगे.

इस मीटिंग के दौरान जब पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत से बसपा और एलएसपी के गठबंधन के बारे में बात की गई तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि एलएसपी एक ऐसी पार्टी है जो प्रारंभ से ही समाज को तोड़ने का काम कर रही है और बात रही बसपा की तो चुनाव के दौरान इस तरह के गठबंधन बनते और बिगड़ते रहते हैं. अभी साफ तौर पर तो कुछ नही कहा जासकता मगर चुनाव के दौरान ही बताया जा सकता है कि गठबंधन दोबारा बनेगा या फिर नहीं.

गुरुग्राम में हुई मीटिंग के दौरान इनेलो के डिप्टी स्पीकर ने यह भी माना कि जींद चुनाव में हार होने के पीछे सबसे बड़ा कारण इनेलो का उम्मीदवार था क्योंकि इनेलो ने दूसरी पार्टियों के मुकाबले में अपना एक आम उमीदवार उतारा था. जो कि जींद की जनता को नहीं पसंद आया और जिस कारण से जींद में इनेलो का प्रदर्शन इस तरह का रहा. जींद चुनाव में हुई हार के बाद इनेलो पार्टी सफाई देने और सभाए करने में जूटी है.  मगर यह तो आने वाला समय ही बताएगा कि इनेलो पार्टी की ये हार के बाद दी गयी सफाई और सभाएं जनता के सामने कितनी कारगर साबित होंगी.


बाकी समाचार