Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 16 जनवरी 2021

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

फोगाट बहनों के आरोप पर अनिल विज ने कहा भाजपा घटिया राजनीति नहीं करती

दोनों बहनों ने बलाली गांव के स्टेडियम को सरकार द्वारा रद्द किए जाने का आरोप लगाया था.

On the allegations of Fogat sisters, Anil Vij said that BJP does not do poor politics, allegations of government canceling the stadium of Balali village, naya haryana, नया हरियाणा

8 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

हरियाणा सरकार ने फौगाट बहनों गीता और बबीता को दिए गए 'तोहफे' को लेकर संशय पैदा होने के बाद कदम उठाया है। सरकार ने फौगाट बहनों के गांव बलाली में स्टेडियम और कुश्ती हाल के प्रोजेक्ट रद करने की खबरों को सिरे से खारिज किया है। करीब पौने दो करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ने में भले ही देरी हो रही, मगर इसे रद नहीं किया गया है। सूबे के खेल मंत्री अनिल विज ने पौने दो करोड़ रुपये में से करीब 30 लाख रुपये की राशि पिछले साल जिला खेल परिषद को स्थानांतरित करने का दावा किया है। बाकी बचे करीब डेढ़ करोड़ रुपये भी जारी करने की स्वीकृति राज्य सरकार ने दे दी है। हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज ने कहा कि भाजपा इस तरह की घटिया राजनीति नहीं करती। कोई कहीं भी प्रचार करने अथवा आने जाने के लिए स्वतंत्र है। विज ने बलाली में खेल स्टेडियम और वातानुकूलित कुश्ती हाल के लिए प्रशासनिक मंजूरी, धन की स्वीकृति तथा जारी की गई राशि का तिथिवार ब्योरा पेश किया।

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय महिला पहलवान फोगाट बहनें व दंगल गर्ल्स गीता- बबीता फोगाट के गांव में बनने वाले खेल स्टेडियम व कुश्ती हॉल का प्रोजेक्ट राज्य सरकार द्वारा रद्द करने का मामला राजनीतिक रूप लेने लगा है. चरखी दादरी का गांव बलाली फोगाट बहनों की वजह से सुर्खियों में रहा है. जहां फोगाट बहनों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनेक मेडल जीते हैं. अपने गांव बिलाली और हरियाणा का नाम रोशन किया है. इसी को लेकर साल 2016 में बलाली में स्टेडियम और एयर कंडीशनर कुश्ती हॉल बनाने की घोषणा हरियाणा सरकार द्वारा की गई थी. घोषणा करने के बाद गांव की पंचायत की ओर से इसके लिए 10 एकड़ जमीन भी उपलब्ध कराई गई थी. माना जा रहा है कि यह प्रोजेक्ट अब राजनीति की भेंट चढ़ गया है. दरअसल जींद उपचुनाव में गीता और बबीता फोगाट की ओर से जेजेपी पार्टी का समर्थन किया गया था और दिग्विजय चौटाला के लिए गीता-बबीता ने वोट मांगे थे. गीता और बबीता के पिता और द्रोणाचार्य अवॉर्डी महावीर फोगाट को जजपा खेल प्रकोष्ठ का जिम्मा भी दिया गया है. राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि बबीता ने जो राजनीति करने की बात कही है उसके पीछे यही वजह हो. वातानुकूलित कुश्ती हॉल रद्द होने पर यहां के खिलाड़ियों में काफी गुस्सा और नाराजगी है. जिस पर बबीता ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से खुद इस मामले में संज्ञान लेने की अपील की है. बबीता ने टि्वटर हैंडल पर लिखा है कि यह सरकार की ओछी मानसिकता को दर्शाता है. सरकार इस तरह से काम करके क्या दर्शाना चाहती है. सरकार को कम-से-कम खिलाड़ियों के साथ तो राजनीति नहीं करनी चाहिए. मैं कुश्ती हॉल रद्द करने के लिए सरकार का पुरजोर विरोध करती हूं. मैं चाहती हूं मुख्यमंत्री जी स्वयं इस मामले में हस्तक्षेप करें.


बाकी समाचार