Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 26 अक्टूबर 2020

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

अभय चौटाला छोटी मानसिकता की बातें कर अपना दिवालियापन खुद घोषित कर रहे हैं: दिग्विजय चौटाला

अभय चौटाला द्वारा अजय चौटाला और जननायक जनता दल पर पैसे लेकर टिकटें बेचने के आरोप लगाए थे.

Abhay Chautala, talking about a small mindset, declaring his own bankruptcy, Digvijaya Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

8 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

अभय चौटाला द्वारा अजय चौटाला और जननायक जनता दल पर पैसे लेकर टिकटें बेचने के आरोप पर दिग्विजय ने अभय चौटाला पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि उनके पिता अजय चौटाला पिछले करीब 40 वर्षों से राजनीति में है और उनके ऊपर किसी तरह का कोई लेन-देन का आरोप नहीं लगा. उनके पिताजी जिस मामले में जेल में है उस केस में भी न्यायमूर्ति ने विशेष तौर पर कहा है कि उन्होंने किसी से कोई पैसे नहीं लिए हैं. दिग्विजय ने कहा कि वैसे भी उन्हें या उनके पिता को किसी से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है. जींद उपचुनाव में मात्र कुछ हजार तक सिमट जाने से यह पार्टी अपना लोकतंत्र आधार तक हो चुकी है. लेकिन अब अभय चौटाला छोटी मानसिकता की बातें कर अपना दिवालियापन खुद ही घोषित कर रहे हैं. अपने गुनाहों को छुपा कर दूसरे पर कीचड़ उछाल अभय चौटाला यह कोशिश कर रहे हैं कि 'हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ लेकर डूबेंगे'. 
दिग्विजय ने कहा कि अभय चौटाला द्वारा बार-बार कहा जाता है कि उनके पास मुख्यमंत्री, अजय चौटाला और न जाने किस-किस के खिलाफ सबूत है. यदि सबूत है तो उन्हें दिखाते क्यों नहीं जनता. सबूत मांगती है उन्हें बहकावे में लाने की कोशिश ना करें. दिग्विजय ने कहा कि इनेलो पार्टी की नौका लगभग डूब चुकी है और वह एक सहारा ढूंढ रही है. यह सहारा उन्हें भाजपा की शरण में ले जाने का प्रयास भर है. उन्होंने यह दावा किया है कि इनेलो के दो बड़े नेता पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री और फिर भाजपा के मंत्री ओपी धनखड़ से भी मिले हैं. उन्होंने मीडिया से कहा कि इनेलो के लोगों से ही इस बात की जानकारी ले सकते हैं. यदि बात झूठ निकली तो साक्ष्य के साथ सबके सामने आएंगे. बसपा द्वारा इनेलो को गठबंधन तोड़ने के लिए कहा गया है तथा चौटाला परिवार की फूट खत्म हो जाए तो गठबंधन जारी रह सकता है. इस पर दिग्विजय चौटाला ने कहा कि मात्र 50 दिन में ही अभय चौटाला इतनी घटिया मानसिकता पर उतर आए हैं. दादा-दादी से ना जाने क्या कुछ परिवार के लिए कहलवा दिया है. अब उनके पिता को भ्रष्ट कहकर वे सभी सीमाएं लांघ चुके हैं. इसीलिए ऐसे लोगों के साथ दोबारा एक होने का तो सवाल ही नहीं उठता. दिग्विजय ने कहा कि अभय चौटाला द्वारा लगाए गए आरोप तो अभी उनकी छोटी मानसिकता का ट्रेलर मात्र है, पूरी फिल्म आना बाकी है.
भविष्य में जे जे पी और बसपा का गठबंधन या प्रदेश में कोई महा गठबंधन को लेकर दिग्विजय ने कहा कि क्रिकेट के खेल की तरह हर गेंद पर मैच बदलता है. इसी तरह लाइक माइंडेड यानी एक जैसी सोच के लोगों और पार्टियों के साथ गठबंधन या कोई महागठबंधन भविष्य की बात है और ऐसे गठबंधन महा गठबंधन का फैसला पार्टी लीडरशिप तय करेगी.


बाकी समाचार