Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 3 दिसंबर 2020

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हरियाणा में पर्ची और खर्ची सिस्टम खत्म किया है : मनोहर लाल

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि भाजपा सरकार 2019 में दोबारा प्रदेश की सत्ता में आई तो हर परिवार की पब्लिक आईडी होगी.

In Haryana, slip and expenditure system is over, Manohar Lal, naya haryana, नया हरियाणा

7 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि भाजपा सरकार 2019 में दोबारा प्रदेश की सत्ता में आई तो हर परिवार की पब्लिक आईडी होगी. अभी हर व्यक्ति की आधार के रूप में यूनिक आईडी तो है, लेकिन पूरे परिवार की एक आईडी नहीं है. ऐसा करने वाला हरियाणा पहला राज्य बनेगा. जैसे बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, केरोसीन फ्री, मॉडल पंचायत प्रतिनिधियों के चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता व ऑनलाइन ट्रांसफर पॉलिसी वाला पहला राज्य बना है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम की शुरुआत पूरे देश के लिए हरियाणा के पानीपत से की थी हरियाणा सरकार के अथक प्रयासों के बाद हमने लोगों की मानसिकता को बदलने का काम किया आज की तारीख में यह स्थिति है कि हरियाणा में 1000 लड़कों पर लड़कियों की संख्या 922 हो गई है.
इसी तरह हर परिवार की यूनिक आईडी होने पर जन्म-मृत्यु पंजीकरण, बच्चे का स्कूल में दाखिला, टीकाकरण, पेंशन इत्यादि सब सुविधाएं घर के दरवाजे पर मिलेंगे. उन्होंने हरियाणा में पर्ची और खर्ची सिस्टम खत्म किया है. अन्य राज्य भी उनके इस मॉडल का अनुसरण करके भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़ने का काम कर सकते हैं.
मनोहर लाल ने कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि के तौर पर 2 हेक्टेयर जमीन वाले किसानों को 6000 रुपये सालाना मिलने पर विपक्ष दुष्प्रचार कर रहा है. जबकि 60 साल सत्ता पर राज करने वाली कांग्रेस यह शुरुआत करना कैसे भूल गई जिसे पीएम नरेंद्र मोदी ने किया है और आगे बहुत कुछ होना बाकी है. नरेंद्र मोदी का विजय रथ रुकने वाला नहीं है. देश में आज हो रहे बेमेल गठबंधन सिर्फ उन्हें सत्ता से बाहर करने के लिए है. इन गठबंधनों का धरातल पर कोई राजनीतिक वजूद नहीं है. उन्होंने गठबंधन की राजनीति पर कहा कि 'कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा, भानुमति ने कुनबा जोड़ा'. उनका मानना है कि सभी दल यदि मिल कर स्वस्थ राजनीति करें तब चुनाव की जरूरत ही नहीं रहेगी. अब देश में वैसा गठबंधन कहां जैसा आपातकाल के समय हुआ था. उस समय भिन्न-भिन्न विचारधाराओं वाले दल आपातकाल के तानाशाही माहौल को खत्म करने के लिए साथ आए थे, वह उसे स्वस्थ गठबंधन मानते हैं. लेकिन अब जो गठबंधन हो रहें हैं वह ठगबंधन हैं.


बाकी समाचार