Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 19 अक्टूबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

राजकुमार सैनी और यशपाल दोनों सरकारी दलाल! : सांगवान

खट्टर सरकार, यशपाल मलिक व राजकुमार सैनी तीनों की तिकड़ी हरियाणा में अब क्या रंग दिखाएगी?

jat reservation, yahspal malik, rajukmar saini, hawa singh sangwan, khattar, jind raily, amit shah, , naya haryana, नया हरियाणा

9 फ़रवरी 2018

नया हरियाणा

 अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष पूर्व कमांडेंट हवासिंह सांगवान ने कहा की यशपाल मलिक के षड्यंत्रों का पर्दाफश कर जनता के सामने सच्चाई लाई जाएगी, जो हरियाणा के जाटों को एक साल से भी अधिक से मूर्ख बनाता आ रहा है. उन्होंने आरोप लगाया की यशपाल मलिक सभी कार्रवाई सरकार के इशारे पर कर रहा है. इसी को देखते हुए नारा बनाया गया है- राजकुमार सैनी और यशपाल, दोनों सरकारी दलाल. गौरतलब है कि 15 फरवरी को हरियाणा के जींद में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की बाइक रैली होनी है. इसी रैली के जवाब में यशपाल मलिक गुट ने ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में सवार होकर भाईचारा न्याय यात्रा का ऐलान कर दिया है. खट्टर सरकार भी मलिक गुट के इस फैसले से सकते में है. ऐसे में अब माना जा रहा है कि अमित शाह का हरियाणा दौरा प्रदेश सरकार के लिए किसी बड़ी परीक्षा से कम नहीं होगा. अमित शाह की इस बाइक रैली का विपक्षी पार्टियों और जेबीटी टीचरों ने भी विरोध करने का ऐलान किया है, जिसके चलते इस कार्यक्रम के दौरान कानून-व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित रखना पुलिस प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती से कम नहीं होगा. यशपाल गुट ने ऐलान किया है कि 15 फरवरी को अगर किसी भी यात्री को रोका तो वे वहीं पर डेरा डाल लेंगे। यहीं से कानून-व्यवस्था बिगड़ने का खतरा पैदा हो गया है. यशपाल गुट की रणनीति जींद में यशपाल मलिक ने रविवार को जाट आरक्षण आंदोलन पर भावी रणनीति बनाकर ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि जाट समाज 36 बिरादरी को साथ लेकर सरकार से अपने सवालों और पूर्व में सरकार के साथ समझौते को अब तक सरकार द्वारा लागू नहीं किए जाने के विरोध में भाईचारा न्याय यात्रा निकालेगी. 


सोशल मीडिया पर लगातार हो रहा है विरोध 
सोशल मीडिया पर खट्टर सरकार, यशपाल मलिक और राजकुमार सैनी तीनों पर लगातार तीखे ढंग से हमले किए जा रहे हैं। हरियाणा के भाईचारे को खराब करने में तीनों को दोषी माना जा रहा है और यह मांग लगातार उठ रही है कि इन दोनों के खिलाफ और खासकर सांसद राजकुमार सैनी के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा क्यों नहीं दर्ज किया जा रहा है? सोशल मीडिया पर एक स्वर यह भी उठ रहा है कि सांसद सैनी और यशपाल मलिक दोनों ही अप्रत्यक्ष रूप में खट्टर के लिए ही ये सब कर रहे हैं। भाजपा सरकार पर यह भी आरोप लग रहा है कि वह हरियाणा जाट और गैर जाट के रूप में फूट डालकर अपनी जीत सुनिश्चित करना चाहती है और इस फूट में सैनी और यशपाल मलिक मोहरे बनकर काम कर रहे हैं.

खट्टर सरकार के केस वापसी वाले कदम पर सोशल मीडिया पर लगातार ये सवाल उठाए जा रहे हैं कि कुछ मामलों को वापस लेने से कुछ नहीं बदलेगा। अगर कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ और गुजरात में पटेलों के खिलाफ दर्ज केस वापस लिए जा सकते हैं, तो जाटों पर दर्ज केस क्यों नहीं?

हवा सिंह सांगवान की रणनीति और आरोप

हवा सिंह ने कहा कि एक यूपी का आदमी जिसको वहाँ के जाटों ने नकार रखा था, वहाँ जिस पर ठगी के कई आरोप थे, उसने कैसे हरियाणा के जाटों को मूर्ख बनाया और करोड़ों रुपया चंदा इकट्ठा कर गया। कभी किसी जाट ने उससे पुछा कि आरक्षण की पैरवी में कितनी बार कोर्ट गया, आयोग में गया? 2016 में जो हुआ उसके लिए हरियाणा सरकार ने झा आयोग गठित किया कितनी बार ये आदमी झा आयोग में गया? पर नहीं, हमें तो बहकने में मज़ा आता है, झूठा प्रचार करने में मज़ा आता है कि सांगवान अपना लड़का एचसीएस लगवा गया। कुछ पोस्टों पर कई लोगों ने इस प्रकार के कोम्मेंट किए है, फ़ोन करके सच्चाई पता नहीं करेंगे, क्योंकि झूठ में मज़ा आता है। ये कभी नहीं सोचते कि इस प्रकार का झूठ किस नियत और एजेंडा से फैलाया जा रहा है? जिसके आंदोलन में एक खरोंच तक नहीं आई वो असली-नक़ली जाट के certificate बाँटते हैं? बात को समझों परखों, किसी भी अफ़वाह और दुष्प्रचार पर विश्वास कर समाज को कुएँ में मत धकेलों। मलिक हरियाणा के जाटों को एक साल से भी अधिक समय से मूर्ख बनाता आ रहा है। वह सरकार के इशारे पर कर रहा है। खाप व अन्य संगठनों को साथ लेकर रणनीति बनाई है।

जींद रैली की तैयारी

हेलिकॉप्टर से बाइक तक बीजेपी की 15 फरवरी को होने वाली रैली में पार्किंग और मुख्य पंडाल लगाने के लिए 10 एकड़ खेत को खाली करवाया गया है। इसके लिए बीजेपी ने किसानों को मुआवजा राशि भी दी है। वहीं, सुरक्षा के चलते रैली में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के कार्यक्रम में बदलाव हो गया है। अब अमित शाह रैली में हेलिकॉप्टर से जींद पहुंचेंगे और इसके बाद वह बाइक पर सवार होकर रैली में पहुंचेंगे। वहीं, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के अलावा सुभाष बराला सहित दूसरे नेता टोहाना से बाइक पर सवार होकर रैली में शामिल होंगे। रैली को लेकर नेता और प्रशासन जुट गया है।

सरकार का मुकदमें वापिस लेने का दावा

6 फरवरी को हरियाणा सरकार ने फरवरी 2016 में हुए आरक्षण आंदोलन के दौरान जाटों के खिलाफ दर्ज किए गए 70 मामलों को वापस लेने का ऐलान किया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह विभाग) एसएस प्रसाद ने बताया कि सरकार ने अब तक 223 मामलों को वापस लेने का फैसला किया है, जिनमें 2027 लोगों को आरोपी बनाया गया था। जानकारी के मुताबिक, 70 एफआईआर में 822 लोगों को आरोपी बनाया गया था। इसी तरह का आदेश दिसंबर में 15 मामलों को वापस लेने के लिए जारी किया गया था, जिनमें 47 लोग आरोपी थे। एसएस प्रसाद के अनुसार 138 मामलों में भी इसी तरह का निर्देश जारी किया गया था, जिनमें 1158 लोगों को आरोपी बनाया गया था। हालांकि जाट नेता पर झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए हरियाणा सरकार में उच्च पदस्थ एक सूत्र ने दावा किया कि हत्या जैसे क्रूर अपराधों से संबंधित किसी मामले को वापस नहीं लिया जाना था। यह समझौते का हिस्सा नहीं था। जानकारी के अनुसार, जाटों के खिलाफ ज्यादातर मामले गैर कानूनी रूप से एकत्र होने, दंगा करने और अवरोध उत्पन्न करने जैसे आरोपों में दर्ज किए गए हैं। फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान करीब 30 लोगों की मौत हुई थी और 300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।


बाकी समाचार