Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 16 जनवरी 2021

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

क्या हरियाणा में लोकसभा के साथ विधानसभा के चुनाव होंगे?

जींद उपचुनाव के नतीजों ने हरियाणा के भविष्य की राजनीति की तस्वीर पेश कर दी है।

Politics of Haryana, Lok Sabha elections, assembly elections, naya haryana, नया हरियाणा

2 फ़रवरी 2019



नया हरियाणा

जींद उपचुनाव के नतीजों ने हरियाणा के भविष्य की राजनीति की तस्वीर पेश कर दी है। जींद के नतीजे न केवल लोकसभा और विधानसभा चुनाव पर असर डालेंगे, बल्कि इन परिणामों ने हार का स्वाद चखने वाले तमाम राजनीतिक दलों को अपनी रणनीति बदलने के लिए मजबूर कर दिया।  जींद में बीजेपी ने 52 साल के लंबे अंतराल के बाद पहली बार कमल खिलाने में सफलता हासिल की है। ऐसे में अब लोकसभा चुनाव के साथ ही हरियाणा विधानसभा का चुनाव होने की संभावना हो गई है। पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी को उत्तर और दक्षिण हरियाणा से काफी सीटें मिली थी। अब मध्य हरियाणा खासकर बांगर बेल्ट में बीजेपी ने अपना खाता खोलकर साफ संकेत दे दिए कि उसका विजय रथ अब हरियाणाा में हर दिशा में घूमेगा और यह कहीं शायद ही रुके। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि जींद उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित बीजेपी अब लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव भी करा सकती है। बीजेपी किसी सूरत में नहीं चाहेगी कि वह उसके हक में बने राजनीतिक माहौल को कैश न किया जाए। इसलिए बजट सत्र के तुरंत बाद एक साथ चुनाव का ऐलान संभव है।

27 फ़रवरी को हरियाणा विधानसभा भंग हो सकती है-यह सूचना सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है जबकि मुख्यमंत्री ने  इस पर गोलमोल जवाब दिया. उन्होंने इस सूचना को न तो गलत बताया और न ही ठीक बताया. 

क्या हरियाणा में लोकसभा के साथ विधानसभा के चुनाव होंगे?

मेरा अनुमान कहता है कि दोनों अपने-अपने समय में होंगे. अर्थात् साथ में नहीं होंगे.

हरियाणा की बीजेपी सरकार अब पूरी तरह आश्वस्त लग रही है कि उसने अपनी कार्यशैली से हरियाणा की जनता के दिल में एक साफ सुथरी जगह बना ली है. सो अब वह अपने दम पर दोबारा सरकार बनाने का दांव खेल सकती है. दूसरे विपक्ष के इस भ्रम को भी दूर कर देगी जो यह समझता है कि हरियाणा की बीजेपी सरकार मोदी लहर के भरोसे हैं. मेरे भीतर थोड़ा सा संशय अहीरवाल बेल्ट को लेकर था, कल वहां एम्स की घोषणा ने मेरे संशय पर विराम लगा दिया. अब हरियाणा की 10 सीटें बीजेपी के खाते में जाती दिख रही हैं. 2014 में मोदी लहर थी, इस बार कहर बनती दिखेगी.


बाकी समाचार