Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

शनिवार, 24 अक्टूबर 2020

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

कुमारी सैलजा और भूपेंद्र सिंह हुड्डा की आपसी खींचतान के चलते अधर में लटकी यमुनानगर चंडीगढ़ रेल लाइन

यमुनानगर-चंडीगढ़ रेल लाइन परियोजना पर चार दशक पहले सर्वे तो हुआ. किंतु आगे रेल लाइन बिछाने की दिशा में कदम नहीं बढ़ सका.

Kumari Selja, Bhupinder Singh Hooda, Yamunanagar, Chandigarh railway line, naya haryana, नया हरियाणा

28 जनवरी 2019



नया हरियाणा

यूपीए सरकार में तत्कालीन केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा व तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की आपसी खींचतान के चलते अधर में लटकी यमुना नगर से चंडीगढ़ रेल लाइन का सपना एनडीए की सरकार में पूरा होता है या नहीं, इसके लिए सभी की नजरें केंद्रीय सरकार द्वारा जारी होने वाले बजट पर हैं. केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार को जमीन अधिग्रहण के तौर पर 1000 करोड़ रुपए देने की बात कही थी. लेकिन हरियाणा सरकार ने राशि देने को तैयार नहीं है. अंबाला के सांसद रतन कटारिया का कहना है कि वे जल्द ही दोबारा प्रधानमंत्री, रेल मंत्री को मिलकर इसका समाधान करवाने का अनुरोध करेंगे.
यमुनानगर-चंडीगढ़ रेल लाइन परियोजना पर चार दशक पहले सर्वे तो हुआ. किंतु आगे रेल लाइन बिछाने की दिशा में कदम नहीं बढ़ सका. इस सौगात के लिए दशकों से इंतजार कर रहे युवा बुजुर्ग हो चले हैं. किंतु रेल लाइन प्रोजेक्ट अब भी कागजों में ही अटका हुआ है. रेलवे सूत्रों की मानें तो यूपीए सरकार के कार्यकाल में रेल बजट में यमुना नगर रेल लाइन के निर्माण को दोबारा हरी झंडी दी गई थी. इसके बाद एक कदम आगे बढ़ते हुए प्रदेश सरकार ने प्रोजेक्ट में गंभीरता जाहिर करते हुए यमुनानगर-चंडीगढ़ रेल लाइन के निर्माण हेतु प्रदेश सरकार के हिस्से का आधा खर्च देने की घोषणा भी की थी. बावजूद इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका.


बाकी समाचार