Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 20 अगस्त 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हरयाणवी छोरे नै आपणे बाबू तै लिख्या कसूत्ता लैटर

संजीत सरोहा एक जागरूक हरियाणवी युवा हैं, जो अपनी संवेदनाओं को हरयाणवी भाषा में सशक्त रूप में अभिव्यक्त करते हैं.

Letter of father's son, naya haryana, नया हरियाणा

17 जनवरी 2018



संजीत सरोहा

राम राम बाबू,
बाबू मेरे हिसाब तै या तेरे ती मेरी पहली राम राम है, क्युकी मेरी तो तेरती कदे राम राम करण की भी हिम्मत ना होई |


तेरा नालायक बेटा आज इस सोशल साइट पे जिसने तू नाश की टाटी माने है, एक चिट्ठी का सिलसिला शुरू करण लाग रह्या सै | इब तो ठीक है मैं पढ़ लिख के बड़ा हो गया, बाहर आगया, थोड़े बहुत पिसे भी कमाण लाग गया, पर उन दिना नैं कुकर भूल ज्यूँ जद तू सर पे थोड़े से बाल जाम्दिये बिठाकी गाल मैं लेकी एक रपिये का ब्लेड कोरा मतिरा काढ देंदा | या फेर जद भी मैं छुट्टी आले दिन आपने याडीयां गल्ले बैट गिंडी या कुछ भी खेलन की सोचदा तो तेरी साइकिल की टाली सुनके नु भाज्या करदा जणु लठ लाग दिए कुती भाजै करै |

आर तेरे याद है बाबु जद मैं 9वी क्लास मैं एक दिन स्कुल तै भाज गया था आर तेरे थाए पाच्छे तू मने स्कूल तक पिटदा लेके आया था, मने सारी बाता का बेरा है बाबु, तू मने पिटना कोई चाहया करदा पर तेरी मज़बूरी आछी तरिया इब समझ मैं आई है, तू कदे नही चाहया करदा की तेरा छोरा बड़ा होके लोगा के ध्याड़ी करे या फेर खेती करे ज्याते तू मारया करदा |
आर मेर ती तू बात बात पे खुद के स्कुल के किस्से सुनाया करदा की हामी क्यूकर पढ़े हाँ, के के ध्याड़े भरे है, थारा टेम तो बहुत आछा है हम भूखे स्कुल जाया करदे आर किरकोली बेच बेच फीस भरया करदे ! बाबु तेरी ये सारी बात आज भी मेरे आछी तरिया याद हैं जद भी खुद नैं एकला या हारया होया महसुस करूं हूँ तो एक बै तने याद करल्यूं सु उसके बाद कोई चीज़ मन्ने हराण नहीं पांदी ! आर बाबु देख एक बात और मैं इब नैं भूल के भी कोई बुरा काम नहीं कर सकदा क्यूंकि मेरे नाम गल्ले तेरा नाम जुड्या है मने कोई नहीं जाणदा जे कुछ कर दिया तो सारे न्यू बोलेंगे की दिलबाग का छोरा नै यो के करया ! मेरी वजह तै तेरी कदे नाड़ नहीं झुकण द्यूंगा !
या तो पहली चिट्ठी है ज्याते इतना ए, आगली चिट्ठी तै आपने दोनुआ के किस्से शेयर करना शुरू करूंगा !

 तेरा नालायक बेटा संजीत सरोहा, सिवाडा (भिवानी) ! 

(नोट:-अगर थाम भी आपने बाबु गल्ले खुद की बात शेयर करना चाहंदे हो तो मने इस पेज पे मैसेज कर सको हो आर जे थमने या चिट्ठी पसंद आई तो इसने शेयर करो आर cmnt करके जरुर बताना की किसी लागी)

Tags:

बाकी समाचार