Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जींद उपचुनाव में ओमप्रकाश चौटाला की पेरोल पर बाहर आने में फंसा पेंच

दिग्विजय चौटाला और रणदीप सुरजेवाला के चुनाव में उतरते ही जींद हॉट सीट बन चुका है.

Jind Upachuna, Om Prakash Chautala, screwed in coming out on payroll, naya haryana, नया हरियाणा

18 जनवरी 2019

नया हरियाणा

दिग्विजय चौटाला और रणदीप सुरजेवाला के चुनाव में उतरते ही जींद हॉट सीट बन चुका है. चुनाव में सभी राजनीतिक दलों ने अपने बड़े-बड़े दिग्गजों को उतारा है जिससे यह चुनाव सभी दलों की प्रतिष्ठा का चुनाव बन गया है. रणदीप सुरजेवाला और दिग्विजय चौटाला का आमने-सामने खड़े होना याद दिलाता है नरवाना विधानसभा चुनाव की. जहाँ पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला और रणदीप सुरजेवाला आमने-सामने आ चुके हैं. इस बार मुकाबला चौटाला के पौत्र दिग्विजय और सुरजेवाला के बीच है. जिसके लिए अशोक तंवर, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, दीपेन्द्र हुड्डा ने सुरजेवाला की कमान अपने मजबूत हाथों में ले ली है. तो वही सूत्रों से पता चला है कि जेजेपी समर्थित उम्मीदवार दिग्विजय के प्रचार का जिम्मा नैना चौटाला संभाल सकती हैं. मुकाबला दिलचस्प बनता जा रहा है जहाँ कोई भी पीछे रहने की कसर छोड़ना नहीं चाहता.

जींद उपचुनाव को लेकर सभी दलों की नजरें ओमप्रकाश चौटाला के पेरोल पर बाहर आने पर टिकी हैं। वहीं सूत्रों के हवाले से खबर है कि जेजेपी पार्टी और उनके पोतों दिग्विजय चौटाला और दुष्यंत चौटाला द्वारा उनकी परोल को लेकर शिकायत दर्ज की गई है कि वो अपनी पत्नी की बीमारी का बहाना लेकर चुनाव प्रचार करने के बहाने पेरोल पर आ रहे हैं। जिसके कारण ओमप्रकाश चौटाला की पेरोल पर पेंच फंसता हुआ दिख रहा है. पूरी संभावना जताई जा रही है कि जेजेपी नेता उनकी पेरोल कैंसल करवाने में सफल होते हुए लग रहे हैं। ऐसे में अगर उनकी पेरोल कैंसल होती है तो इसका सीधा फायदा जेजेपी को होगा और नुकसान इनेलो प्रत्याशी को होगा। जेजेपी को इसका सीधा फायदा ये भी मिलेगा कि वो ये जो प्रचार कर रहे हैं कि ओमप्रकाश चौटाला का हाथ उनके सिर पर है, इसीलिए वो इनेलो का प्रचार करने नहीं आये। हालांकि अभी किसी बात कि अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।


बाकी समाचार