Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 22 जनवरी 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व बलिदान करने वाले 'शेर ए हरियाणा' राजा नाहर सिंह

अमर शहीदों में बल्लभगढ़ के नरेश राजा नाहर सिंह जी का बलिदान अतुलनीय और अविस्मरणीय है.

To protect the motherland, sacrificing all its sacrifice, Sher A Haryana, Ballabhgarh, Metro Station, Raja Nahar Singh, captain abhimanyu, naya haryana, नया हरियाणा

9 जनवरी 2019

नया हरियाणा

हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बल्लभगढ़ मैट्रो स्टेशन का नाम अमर शहीद राजा नाहर सिंह के नाम पर रखने की मांग की है. इस सम्बन्ध में उन्होंने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को पत्र लिखा है. बल्लभगढ़ की सामाजिक संस्थाओं और गणमान्य नागरिकों ने वित्त मंत्री को पत्र भेजकर राजा नाहर सिंह के नाम से मेट्रो स्टेशन का नाम रखने की मांग की थी. वित्त मंत्री ने सभी पत्र मुख्यमंत्री को भेजकर मांग को आगे बढाया है और उम्मीद जताई है कि जन भावनाओं को ध्यान में रखते हुए यह मांग जरुर पूरी की जायेगी.
मुख्यमंत्री को भेजे गये पत्र में कैप्टन अभिमन्यु ने कहा है कि हरियाणा की महान धरा पर समय-समय पर ऐसे राष्ट्रभक्तों, शूरवीरों और रणबांकुरों ने जन्म लिया जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक की आहूति दे दी. अंग्रेजों के विरुद्ध हुई 1857 की क्रान्ति में भी हमारे वीरों ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया था. 1857 में भारत माता की आज़ादी के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले अमर शहीदों में बल्लभगढ़ के नरेश राजा नाहर सिंह जी का बलिदान अतुलनीय और अविस्मरणीय है. उनका पूरा जीवन संघर्ष, साहस, राष्ट्रभक्ति और बलिदान की कहानी है. राजा नाहर सिंह के जीवन से कई पीढ़ियों ने प्रेरणा ली है और भविष्य में भी उनका जीवन हमारी आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा प्रदान करता रहेगा. आजादी के मतवाले शहीद राजा नाहर सिंह का नाम इतिहास में सदैव अमर रहेगा.
वित्त मंत्री द्वारा लिखे गये पत्र में कहा गया है कि 6 अप्रैल 1821 को महाराजा राम सिंह के घर जन्मे नाहर सिंह मात्र 18 वर्ष की आयु में 20 जनवरी 1839 को बसंत पंचमी के दिन बल्लभगढ़ के नरेश बने थे. राजा नाहर सिंह महान राष्ट्रभक्त और क्रांतिकारी थे, जिन्होंने दिल्ली राजधानी की सुरक्षा के लिए प्राणों की बाजी लगा दी. अंग्रेजों के विरुद्ध क्रांति का बिगुल फूंकने वाले राजा नाहर सिंह को मात्र 36 वर्ष की आयु में 9 जनवरी 1858 को लालकिले के सामने चांदनी चौक में ब्रिटिश सरकार ने फांसी पर लटका दिया था. फांसी के बाद उनके शव को भी अंग्रेजों ने इस डर से उनके परिजनों को नहीं दिया कि कहीं उनके शव को देखकर उनकी प्रजा ऐसा विद्रोह ना कर दे जिसे दबाना असंभव हो जाये. राजा नाहर सिंह आज भी बल्लभगढ़ की ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा के लिए एक पूजनीय महापुरुष हैं. 
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि दिल्ली मेट्रो रेल का विस्तार बल्लभगढ़ (फरीदाबाद) तक हो गया है और बल्लबगढ़ में भी मेट्रो का एक स्टेशन स्थापित किया गया है. पूरे बल्लभगढ़ क्षेत्र की जनता यह चाहती है कि इस मेट्रो स्टेशन का नाम राजा नाहर सिंह मेट्रो स्टेशन रखकर महान शहीद को सम्मान प्रदान करते हुए आने वाली पीढ़ियों के लिये एक प्रेरणा का केंद्र बनाया जाए. कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों एवं विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने भी इस बारे में आग्रह किया है और उन्होंने सभी आग्रह पत्र मुख्यमंत्री को इस विश्वास के साथ प्रेषित किये हैं की जन भावनाओं को ध्यान में रखते हुए बल्लबगढ़ मेट्रो स्टेशन का नाम राजा नाहर सिंह मेट्रो स्टेशन रखा जाएगा.


बाकी समाचार