Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 16 जनवरी 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

रविंद्र सिंह ढुल हो सकते हैं जींद उपचुनाव में इनेलो के प्रत्याशी

जींद उपचुनाव में सभी दलों के भीतर टिकट को लेकर लॉबिंग शुरू हो चुकी है.

Ravindra Singh Dhull, Jind via bypoll, inld candidate, Parminder Singh Dhull, naya haryana, नया हरियाणा

2 जनवरी 2019

नया हरियाणा

सोशल मीडिया पर ये खबर खूब चल रही है कि इनेलो से जुलाना के विधायक परमिंद्र ढुल के बेटे वकील रविंद्र सिंह ढुल को इनेलो से प्रत्याशी हो सकते हैं। इनके इनेलो से चुनाव लड़ने से जेजेपी को सीधे-सीधे नुकसान होगा। रविंद्र सिंह के दादा दल सिंह जींद से विधायक रह चुके हैं। उन्होंने कांग्रेस के दया कृष्ण को हराया था। चौधरी दल सिंह को हरियाणा की राजनीति में खूंडा झोटा और पाणी का बादल कहा जाता है। 1951 में जन्में चौधरी दल सिंह का निधन 1991 में हुआ था। 1952 से 1977 तक हरियाणा की राजनीति में शामिल रहे। फिर उन्होंने अपने खराब स्वास्थ्य के कारण अनौपचारिक सेवानिवृत्ति ले ली। वे 1966 में हरियाणा के पहले सिंचाई और बिजली मंत्री  बने थे।

1972 28 Jind GEN Dal Singh M NCO 28281 Daya Krishan M INC 21999

जींद जिले में इसके साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। 28 जनवरी को मतदान होगा, जबकि 31 जनवरी को चुनाव परिणाम आएगा। तीन जनवरी 2019 को आयोग की ओर से चुनाव की अधिसूचना जारी की जाएगी। दस जनवरी तक प्रत्याशी नामांकन दाखिल कर सकेंगे। 11 जनवरी को नामांकन पत्रों की छंटनी होगी और 14 जनवरी को उम्मीदवार नामांकन वापस ले सकते हैं। 28 जनवरी को मतदान होगा और 31 जनवरी को  रिजल्ट आएगा। 2 फरवरी तक पूरी चुनाव प्रक्रिया आयोग संपन्न करा लेगा। इसके साथ ही आचार संहिता भी खत्म हो जाएगी। आचार संहिता के दौरान सरकार चुनाव को प्रभावित करने वाली कोई घोषणा नहीं कर सकेगी। कोई भी बड़ी घोषणा करने से पहले राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से अनुमति लेनी पड़ेगी।

 प्रदेश सरकार अब चुनाव आयोग को पूछे बिना जींद जिले के उपचुनाव से जुड़े अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला नहीं कर पाएगी। उपचुनाव पहली जनवरी 2018 की मतदाता सूची अनुसार संपन्न कराया जाएगा। इनेलो विधायक डॉ. हरिचंद मिड्ढा के निधन के बाद जींद विधानसभा सीट खाली हो गई थी। 26 अगस्त 2018 को मिड्ढा का निधन हुआ था। इसलिए छह महीने के भीतर चुनाव आयोग को उपचुनाव कराना था। छह महीने 25 फरवरी को पूरे होंगे।


बाकी समाचार