Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 25 जनवरी 2021

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

हरियाणा में कांग्रेस की सरकार आते ही 1 घंटे में किसानों का कर्जा माफ कर दिया जाएगा : दीपेंद्र सिंह हुड्डा

कुछ दिन पूर्व भूपेंद्र हुड्डा ने 6 घंटे में माफ करने की बात कही थी.

Congress government in Haryana, farmers' debt will be waived in 1 hour, Deepinder Singh Hooda, former CM Hooda had called the hour, naya haryana, नया हरियाणा

2 जनवरी 2019



नया हरियाणा

कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य और रोहतक के सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने ऐलान किया है कि हरियाणा में कांग्रेस की सरकार आते ही सहकारी व अन्य बैंकों से कृषि कार्यों के लिए गए ऋण को 1 घंटे में माफ कर दिया जाएगा और 12 घंटे में बुढ़ापा पेंशन 3000 रुपए मासिक कर दी जाएगी. इसके अलावा बिजली के बिल घटा करा आधे कर दिए जाएंगे.
दीपेंद्र हुड्डा हलके के गांव गिरावड़ में जनसभा को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने रोहतक व किलोई में भी कई कार्यक्रमों में शिरकत की. दीपेंद्र ने भाजपा सरकार द्वारा सरकारी कर्मचारी की पेंशन स्कीम को बंद करने के फैसले को अनुचित बताया. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने पर पुरानी पेंशन स्कीम को फिर से लागू किया जाएगा. सांसद ने कहा कि हुड्डा सरकार के 10 साल के शासनकाल में गन्ना उत्पादकों को न केवल उच्चतम कर दिया गया बल्कि समय पर बन्ना की पेमेंट सुनिश्चित की.
जबकि भाजपा सरकार मिलों की ओर लंबित सीजन 2017-18 के सैकड़ों करोड़ रुपए अभी तक नहीं दिला सकी. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई जगह हुई ओलावृष्टि से नुकसान की अभी तक विशेष गिरदावरी भी नहीं हुई. कृषि विभाग कह रहा है कि रिकवरी संभव है पर शायद सरकार को नहीं मालूम कि ओलों से टूटे सरसों के डंठल की रिकवरी संभव नहीं.
सांसद दीपेंद्र ने कहा कि कर्मचारियों में भारी असंतोष है. खासकर परिवहन विभाग में स्थिति असामान्य है. विभाग की किलोमीटर स्कीम में कर्मचारियों को आंदोलन पर जाने को मजबूर कर दिया है. जिससे आम आदमी को भी भारी परेशानी होगी. राफेल खरीद घोटाले पर सांसद ने कहा कि भाजपा सरकार ने तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर सुप्रीम कोर्ट में पेश किया है. जिसमें कई झूठी जानकारी दी गई और कई महत्वपूर्ण तथ्य कोर्ट को नहीं बताए गए.


बाकी समाचार