Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 24 मार्च 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में उठाया पुरानी पेंशन स्कीम का मुद्दा

पुरानी पेंशन स्कीम को लेकर कर्मचारियों का संघर्ष दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है.

MP Dushyant Chautala, Lok Sabha, old pension scheme issue, naya haryana, नया हरियाणा

1 जनवरी 2019

नया हरियाणा

सोमवार को लोकसभा में कर्मचारियों की पुरानी पेंशन स्कीम का मुद्दा जोर शोर से उठाया गया. हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने नई पेंशन स्कीम (एनपीएस) का मुद्दा उठाते हुए केंद्र सरकार से एनपीएस की बजाय पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने की मांग की. सांसद ने गेस्ट टीचर्स को पक्का करने, स्कूली शिक्षा में सुधार करने, सरकारी अस्पतालों में मरीजों को रेफर करने और हरियाणा में सिंचाई और पीने के पानी का प्रबंध करने का भी मुद्दा उठाया. दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकारी कर्मचारी न्यू पेंशन स्कीम को लेकर बड़ी समस्या का सामना कर रहे हैं. कुछ राज्य में 2004 के बाद और हरियाणा में 2006 के बाद न्यू पेंशन स्कीम लागू की गई थी.  स्कीम के तहत सरकारी कर्मचारियों के पेंशन स्कीम के तहत जमा किए जा रहे पैसे को, सरकार द्वारा स्टॉक मार्केट में निवेश किया जा रहा है.

नई पेंशन स्कीम और पुरानी पेंशन स्कीम में अंतर

1-पुरानी पेंशन पाने वालों के लिए जी0 पी0 एफ0 सुविधा उपलब्ध है जबकि नयी पेंशन योजना में जी0 पी 0एफ0 नहीं है ।
2-पुरानी पेंशन के लिए वेतन से  होती है जब चाहो जितनी जमा करेा जब चाहो जितनी निकालो  जबकि नयी पेंशन योजना में वेतन से प्रति माह 10%की कटौती निर्धारित है और निकालने का कुछ पता नहीं ा
3-पुरानी पेंशन योजना में रिटायरमेन्ट के समय एक निश्चित पेंशन( अन्तिम वेतन का 50%) की गारेण्टी है जबकि नयी पेंशन योजना में पेंशन कितनी मिलेगी यह निश्चित नहीं है यह पूरी तरह शेयर मार्केट व बीमा कम्पनी पर निर्भर है ।
4-पुरानी पेंशन सरकार देती है जबकि नयी पेंशन बीमा कम्पनी देगी । यदि कोई समस्या आती है तो हमे सरकार से नहीं बल्कि बीमा कम्पनी से लडना पडेगा ।
5-पुरानी पेंशन पाने वालों के लिए रिटायरमेंट पर ग्रेच्युटी( अन्तिम वेतन के अनुसार 16.5माह का वेतन) मिलता है जबकि नयी पेंशन वालों के लिये ग्रेच्युटी की कोई व्यवस्था नहीं है ।
6-पुरानी पेंशन वालों को सेवाकाल में मृत्यु पर डेथ ग्रेच्युटी मिलती है जो 7पे कमीशन ने 10लाख से बढाकर 20लाख कर दिया है जबकि नयी पेंशन वालों के लिए डेथ ग्रेच्युटी की सुविधा समाप्त कर दी गयी है ।
7-पुरानी पेंशन में आने वाले लोंगों को सेवाकाल में मृत्यु होने पर उनके परिवार को पारिवारिक पेंशन मिलती है जबकि नयी पेंशन योजना में पारिवारिक पेंशन को समाप्त कर दिया गया है ।
8-पुरानी पेंशन पाने वालों को हर छ: माह बाद महँगाई तथा वेतन आयोगों का लाभ भी मिलता है जबकि नयीपेंशन में फिक्स पेंशन मिलेगी महँगाई या वेतन आयोग का लाभ नहीं मिलेगा यह हमारे समझ से सबसे बडी हानि है ।
9-पुरानी पेंशन योजना वालों के लिए जी0 पी0 एफ0 से आसानी से लोन लेने की सुविधा है जबकि नयी पेंशन योजना में लोन की कोई सुविधा नही है( विशेष परिस्थिति में कठिन प्रक्रिया है केवल तीन बार वह भी रिफण्डेबल) ।
11-पुरानी पेंशन योजना में जी0 पी0 एफ0 निकासी( रिटायरमेंट के समय) पर कोई आयकर नहीं देना पडता है जबकि नयी पेंशन योजना में जब रिटायरमेंट पर जो जो अंशदान का 60%वापस मिलेगा उसपर आयकर लगेगा 
12-जी 0पी0एफ0पर ब्याज दर निश्चित है जबकि एन0 पी0 एस0 पूरी तरह शेयर पर आधारित है 


बाकी समाचार