Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 24 जनवरी 2021

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

अहीरवाल की राजनीतिक जमीन में मनोहर लाल ने लगाई सेंध

दक्षिण हरियाणा की राजनीति को विकेन्द्रकरण की तरफ ले जाकर खुद को मजबूत कर रहे हैं मनोहर लाल।

Manohar lal, rao inderjeet singh, karishan pal gurjar, vipul goel, rao narbeer singh, अहीरवाल की राजनीति, दक्षिण हरियाणा की राजनीति, naya haryana, नया हरियाणा

31 दिसंबर 2018



नया हरियाणा

हरियाणा में मनोहर लाल ने जीटी रोड और जाट बेल्ट की परीक्षा के बाद दक्षिण हरियाणा की तरफ अपना राजनीतिक रूख किया है। जिसकी झलक उस तरफ के विधायकों ने विरोध में रूप में स्पष्ट कर दी है। हरियाणा के पांच नगर निगम चुनाव में जीत ने भाजपा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल के हौसले को बुलंद कर दिया है। उत्तर हरियाणा रिजल्ट में चुनावी अग्नि परीक्षा के पास होने के बाद मुख्यमंत्री का पूरा फोकस अब दक्षिण हरियाणा पर रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में दक्षिण हरियाणा से दो और मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कैबिनेट में चार मंत्री है। पिछले चुनाव में इस इलाके से पार्टी को उम्मीद के मुताबिक नतीजे नहीं मिल पाए थे। लिहाजा भाजपा के मिशन 2019 के एजेंडे में दक्षिण हरियाणा टॉप पर है। दक्षिण हरियाणा के दोनों केंद्रीय मंत्रियों के अपने राजनीतिक एजेंडे हैं। उनकी मनोहर कैबिनेट में दक्षिण का प्रतिनिधित्व कर रहे कई मंत्रियों के साथ नहीं बनती। मंत्री और कुछ विधायक राव इंद्रजीत के समर्थन में तो कुछ कृष्ण पाल गुर्जर का हाथ पकड़े हुए हैं। इसके बावजूद फरीदाबाद में उद्योग मंत्री विपुल गोयल,  गुरुग्राम में पीडब्ल्यूडी मंत्री राव नरबीर, महेंद्रगढ़ इलाके में शिक्षा मंत्री प्रोफेसर रामविलास शर्मा का अपना अलग ही दबदबा है। जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी राज्य मंत्री मनोहर कैबिनेट में मंत्री हैं। परंतु उनकी नजदीकियां राव इंद्रजीत से जगजाहिर है। उनसे पहले विक्रम सिंह ठेकेदार मनोहर कैबिनेट में मंत्री थे।
 भाजपा को आशंका है कि अगले लोकसभा व विधानसभा चुनाव में पार्टी को इन नेताओं की आपसी झगड़े का नुकसान उठाना पड़ सकता है। या मुख्यमंत्री ने अपने विश्वासपात्र मंत्रियों को साथ लेकर दक्षिण में नए सिरे से पैठ जमानी शुरू कर दी है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही संकेत कर चुके हैं कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ही अगले चुनाव में पार्टी का चेहरा होंगे।  3 राज्यों में भाजपा की हार के बाद हरियाणा में 5 नगर निगम की जीत ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व पर मोहर लगा दी है।  दक्षिण के गोरियावास में सफल रैली के बाद जिस तरह से विपुल गोयल ने फरीदाबाद में मुख्यमंत्री की शानदार शंखनाद रैली कराई है। उससे माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री अपनी टीम के साथ होमवर्क में जुट गए हैं। मुख्यमंत्री की दक्षिण में रैलियों के बाद कैबिनेट के बाकी मंत्रियों व विधायकों के इलाकों में भी जनसंपर्क तेज करेंगे। वहां लोकल मुद्दों के हिसाब से रैलिया प्लान की जा रही हैं। ओरियावास की रैली ग्रामीण इलाके में थी और विपुल गोयल की रैली शहरी इलाके में। मुख्यमंत्री ने रैली में जातिगत राजनीति पर हमला बोल दिया है। मनोहर लाल ने दक्षिण हरियाणा की राजनीति में अपनी खास किस्म की दखल से रूढ़ हो चुकी नेताओं की छवियों और केंद्रों को विखंडित करना शुरू कर दिया है।


बाकी समाचार