Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 27 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हॉफ टाइम तक खूब नौटंकियां हुई हरियाणा विधानसभा में

हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र में शुक्रवार को जोरदार हंगामा हुआ।

Haryana assembly, winter session, naya haryana, नया हरियाणा

28 दिसंबर 2018



नया हरियाणा

हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र में शुक्रवार को जोरदार हंगामा हुआ। विपक्षी दलों ने सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग पर सरकार को घेरा तो साथ ही प्रश्नकाल और शून्यकाल का प्रावधान न होने पर कांग्रेस और इनेलो ने सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया। ध्यानाकर्षण के दौरान किसानों की समस्याओं पर चर्चा के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। नेता प्रतिपक्ष पर टिप्पणी से विवाद इतना बढ़ा कि इनेलो के कई विधायक सत्तापक्ष की सीटों तक पहुंच गए और राज्य मंत्री कृष्ण बेदी के साथ हाथापाई तक की नौबत आ गई। हालांकि मार्शल के बीच बचाव के चलते तल्खी से ही मामला निपट गया।सत्र की पहली सीटिंग के दौरान इनेलो और कांग्रेस ने एक-एक बार सदन का बहिष्कार किया। 

हरियाणा विधानसभा के शुक्रवार को हुए एक दिवसीय शीतकालीन सत्र में खूब हंगामा हुआ। दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि देने के तुरंत बाद सबसे पहले सदन की अवधि को लेकर विपक्ष ने शोरगुल किया। महज एक दिन का सत्र बुलाए जाने और उसमें भी शून्यकाल और प्रश्नकाल का प्रावधान न किए जाने पर विपक्ष सरकार पर बिफर पड़ा। हालांकि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दावा किया कि विपक्ष के साथ बातचीत कर ही सत्र की अवधि तय की गई है। बीएसी में विपक्ष के नेताओं के कहने पर सदन की सिटिंग बढ़ी है और डबल की गई है। पिछले सत्र में नेता प्रतिपक्ष के साथ झड़प को लेकर एक साल के लिए सदन से बाहर किए गए कांग्रेस नेता कर्ण सिंह दलाल का निलंबन वापस ले लिए गया। हालांकि सदन के बहार नेता प्रतिपक्ष ने सीएम को झूठा बताकर आरोप लगाया था उनके साथ बीएसी से पहले सत्र को लेकर कोई बातचीत नही हुई ।वहीं सीएम ने सदन में दावा किया उनकी कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी और इनेलो नेता अभय चौटाला से बात हुई थी.

सत्र की पहली सीटिंग में नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने SYL और दादुपुर नलवी नहर पर काम रोको प्रस्ताव पर चर्चा की मांग की। गन्ना किसानों की समस्याओं पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के हवाले से बोलने की बजाय अभय चौटाला एसवाईएल पर चर्चा के लिए अड़े रहे। साथ ही उन्होंने किसानों व छोटे व्यापारियों की कर्जमाफी पर बोलने की जिद की। इस दौरान राज्यमंत्री कृष्ण बेदी की टिप्पणी पर नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला भड़क गए। अभय चौटाला के साथ इनेलो के तमाम विधायक सत्ता पक्ष की सीटों के पास पहुंच गए। इस दौरान राज्यमंत्री कृष्ण बेदी इनेलो विधायकों के बीच हाथापाई की नौबत आ गई। मार्शलों को तैनात कर स्थिति पर नियंत्रण किया गया।

इनेलो विधायक केहर सिंह और राज्यमंत्री कृष्ण बेदी ने एक दूसरे को सदन से बाहर आने की चुनौती दे डाली। इससे पहले अभय चौटाला ने वेल में पहुँचकर स्पीकर से बेदी पर गलत शब्दो का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। अभय चौटाला ने कहा कि सरकार के मंत्री विपक्ष को बोलने नहीं दे रहे और सदन में आपत्तिजनक टिप्पणी की गई हैं।वहीं सरकार ने कहा विपक्ष मुद्दाविहीन है.

राज्यमंत्री कृष्ण बेदी ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला का सदन में व्यवहार बेहद गैर जिम्मेदाराना है और वह दूसरों की आवाज दबाने की कोशिश करते हैं। हमने साफ कर दिया है कि विधानसभा चर्चा के लिए है और लड़ने का स्थान विधानसभा नहीं बल्कि चुनाव में हम इनेलो को उसकी औकात दिखाएंगे।  

पहली सीटिंग में हंगामे के दौरान इनेलो और कांग्रेस ने एक-एक बार सदन से वॉक ऑउट करके गए ।हालांकि पहली सिटिंग के करीब डेढ़ घण्टे तक किसानों से जुड़े मुद्दे एसवाईएल और कर्जमाफी पर इनेलो कांग्रेस ने सत्तापक्ष की पूरी घेराबंदी की ।


बाकी समाचार