Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 22 जुलाई 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

समालखा के संजय कौशिक विज्ञात को मिला साहित्य भूषण सम्मान

इस सम्मान का श्रेय संजय कौशिक विज्ञात ने अपने पिता जी को दिया.

Samalkha, District Panipat, Haryana, Sanjay Kaushik, Literature Bhushan Samman, IIM Bodh Gaya, naya haryana, नया हरियाणा

24 दिसंबर 2018



नया हरियाणा

आईआईएम बोध गया द्वारा आयोजित वार्षिक कार्यक्रम में एक शाम हिन्दी के उत्थान हेतु साहित्यकारों का सम्मान समारोह एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें देश भर से आमंत्रित कविजनो ने अपनी श्रेष्ठतम प्रस्तुति से श्रोताओं को अच्छी संदेशात्मक कविताओं से मंत्र मुग्ध किया। 
इस आयोजन में समालखा निवासी संजय कौशिक विज्ञात को आईआईएम द्वारा साहित्य भूषण सम्मान से सम्मानित किया गया। जहाँ उनका सम्मान आई आई एम बोध गया की डॉ विनीता सहाय डायरेक्टर द्वारा सी ए ओ ब्रिगेडियर एम. डी. चाको मेवा आनंद एस बी आई रीजनल मैनेजर की विशेष उपस्थिति में हुआ। राष्ट्र की प्रसिद्ध हस्तियों में शुमार आशा शैली नैनीताल, क्षितिज पाण्डेय, शाश्वत अरोड़ा, डॉ. रश्मि प्रियदर्शनी, सुरेंद्र सिंह सुरेंद्र के साथ उत्तम कोटि की साहित्यिक विचार धारा साझा करने का अवसर प्राप्त हुआ। संजय कौशिक विज्ञात ने आगे बताया कि तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में साहित्य के प्रति लगाव प्रेम देख मन में अपार हर्ष की अनुभूति हुई, एक ग़ज़ल के शेर.. काँच के मकानों में बैठ कर के तुम यारो दूसरों पे ये पत्थर किस तरह चलाते हो को मुख्य पंक्ति के रूप में कोट कर प्रभात खबर ने भी संजय कौशिक विज्ञात का खूब मान बढ़ाया। इस सम्मान का श्रेय संजय कौशिक विज्ञात ने अपने पिता जी को दिया जिन्होंने कलम साधना में उनका अनेक विधाओं में समय समय पर उचित मार्गदर्शन किया है ।


बाकी समाचार