Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

रविवार, 24 मार्च 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जानिए जींद उपचुनाव में कांग्रेस से कौन हो सकते हैं प्रत्याशी

जींद का उपचुनाव कांग्रेस के लिए किसी बड़ी परीक्षा से कम साबित होने वाला नहीं है.

Jind elections, Jind Vidhan Sabha, Pramod Sehwag, Brijmohan Singhla, Anshul Singla, former CM Bhupinder Singh Hooda, JP, Randeep Surjewala, who can be the Congress candidate, naya haryana, नया हरियाणा

24 दिसंबर 2018

नया हरियाणा

आईएनएलडी विधायक डॉ. हरिचंद मिढ़ा के निधन से खाली हुई जींद विधानसभा सीट पर दिसंबर में उपचुनाव होना है। 2014 में बीजेपी के उम्मीदवार पूर्व सांसद सुरेंद्र बरवाला आईएनएलडी के डॉ. हरिचंद मिढ़ा से लगभग 2200 मतों के अंतर से पराजित हुए थे। इस एक चुनाव को छोड़ दिया जाए तो बीजेपी जींद विधानसभा सीट पर कभी मुख्य मुकाबले में भी नहीं आ पाई। 

हरियाणा की राजनीति में कहा जाता है कि जींद हरियाणा की राजनीति को दिशा देती है। ऐसे में जींद उपचुनाव में जहां एक तरफ बीजेपी के लिए जीतना जरूरी है, वहीं इतिहास बताता है कि जींद विधानसभा सीट बीजेपी के लिए सबसे मुश्किल रही है। इस सीट पर बीजेपी आज तक अपना खाता भी नहीं खोल पाई है। अब जींद विधानसभा सीट के संभावित उपचुनाव में भी बीजेपी के लिए जींद आसान राजनीतिक चुनौती साबित नहीं होगा। हालांकि राजनीति के जानकारों का मानना है कि बीजेपी इस बार जींद को साधने में कामयाब होती हुई नजर आ रही है। पांच नगर निगमों के चुनावों में जीत ने बीजेपी वर्कर और नेताओं के हौंसले बढ़ा दिए हैं।

ऐसे में जींद उपचुनाव में कांग्रेस की मुश्किलें भी बढ़ती नजर आ रही हैं, क्योंकि पांच नगर निगम चुनावों में कांग्रेस ने भले ही सीधे चुनाव नहीं लड़े हो पर हुड्डा समर्थित, जिंदल परिवार व कुलदीप बिश्नोई समर्थित व शैलजा समर्थित प्रत्याशियों को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था। इन चुनावों के परिणामों को देखते हुए कांग्रेस बैकफूट पर नजर आ रही है। कांग्रेस के भीतर सत्ता के लिए संघर्ष भी कांग्रेस को लगातार कमजोर करता रहा है। 

ऐस में कांग्रेस की तरफ से कौन प्रत्याशी हो सकता है, इसके लिए भी हरियाणा के कांग्रेसी नेता जद्दोजहद करते हुए नजर आने वाले हैं। हरियाणा मुख्यमंत्री की दौड़ में शामिल सभी नेता अपने चहेते को टिकट दिलवाने के लिए हाथ पैर मारते हुए नजर आएंगे। जिसकी शुरूआत भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने काफी पहले कर दी थी।

बृजमोहन सिंगला के बेटे पर कांग्रेस लगा सकती है दांव

सक्रिय राजनीति में रहते हुए बृजमोहन सिंगला ने हरियाणा के विकास को एक नई दिशा प्रदान की थी। बृजमोहन सिंगला 1982 में जींद विधायक बने और आबकारी एवं कराधान मंत्री के रूप में प्रदेश को अपनी सेवाएं दी। इसके पश्चात 1996 में पुन: जींद से विधायक चुने गए और राज्य के कैबिनेट मंत्री बनकर विभिन्न मंत्रालयों में प्रदेश के विकास के लिए अपना योगदान दिया। सिंगला ने राजनीति को सामाजिक सरोकार से जोड़ा।  बृजमोहन का न केवल राजनीतिक क्षेत्र में बल्कि सामाजिक क्षेत्रों में भी योगदान रहा है। वे क्षेत्र के हिन्दु कन्या महाविद्यालय के 27 साल तक प्रधान रहे। इसके साथ-साथ छोटू राम किसान कॉलेज जींद के 5 वर्ष तक प्रधान रहें। बृजमोहन सिंगला राजनीतिज्ञ एवं सामाजिक व्यक्तित्व के अलावा अच्छे खिलाड़ी भी थे। वे हॉकी में अनेक प्रतिस्पधाओं में राज्य के लिए खेल चुके हैं।

जींद की सीट पर उप-चुनाव को लेकर राजनीति काफी लंबे समय से गर्माहट ले चुकी थी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने  हरिचंद मिड्ढा के बेटे कृष्ण-मिड्ढा को बीजेपी जॉइन करवाई तो पूर्व सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने पूर्व मंत्री बृजमोहन सिंगला के बेटे अंशुल सिंगला से राजनीतिक मुलाकात की थी। इस मुलाकात के सीधे मायने यही निकलते हैं कि पूर्व सीएम हुड्डा उन्हें अपने नेतृत्व में कांग्रेस में  शामिल करना चाहते हैं और जींद उपचुनाव में उन्हें टिकट दिलवाना चाहते हैं। वो कांग्रेस पार्टी की तरफ से हो सकते हैं अगले उम्मीदवार।

<?= Jind elections, Jind Vidhan Sabha, Pramod Sehwag, Brijmohan Singhla, Anshul Singla, former CM Bhupinder Singh Hooda, JP, Randeep Surjewala, who can be the Congress candidate; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

कांग्रेस यहां से प्रमोद सहवाग को चुनाव लड़वा सकती 

प्रदेश कांग्रेस कमेटी सदस्य प्रमोद सहवाग जींद में काफी सक्रिय रहते हैं। जींद उप चुनाव के लिए टिकट मिलने से पहले ही कांग्रेसियों में आपसी गुटबाजी एक बार फिर सामने आई है। इस तरह की खबरें जींद में अक्सर छपती रही हैं। कांग्रेसी नेता व वार्ड 14 से जिला पार्षद सतपाल उर्फ सत्तु संगतपुरा ने आरोप लगाते हुए कहा था कि कांग्रेसी नेता प्रमोद सहवाग द्वारा गांवों में प्रचार करके यह कहना कि उसकी टिकट पक्की है, बिल्कुल गलत है। इससे पार्टी पर गलत असर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय कांग्रेस पार्टी पूरे प्रदेश में मजबूत है, लेकिन प्रमोद सहवाग जिस प्रकार से अपने आपको कांग्रेस की जींद से टिकट पक्की होने की बात कह रहे हैं, वह बिल्कुल गलत है। टिकट की दावेदारी करना अलग बात है, लेकिन टिकट आलाकमान द्वारा पक्की होने की बात कहना गलत है। इसकी शिकायत वह पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा व सांसद दीपेंद्र हुड्डा से करेंगे। इस तरह की खबरें से यह अंदाजा लगाया जा सकता है प्रमोद सहवाग की टिकट पूर्व सीएम की चली तो कटना तय मानिए। हालांकि प्रमोद सहवाग की पहुंच सीधे राहुल गांधी तक है, ऐसे में उन्हें हल्के में लेना हुड्डा खेमे के लिए महंगा साबित हो सकता है। हो सकता है कि जेपी और रणदीप सुरजेवाला दोनों इसी पर अपना हाथ रख दें। या चुनाव में कांग्रेस की खराब हालत देख वो साइलेंट रहना पसंद करें।

<?= Jind elections, Jind Vidhan Sabha, Pramod Sehwag, Brijmohan Singhla, Anshul Singla, former CM Bhupinder Singh Hooda, JP, Randeep Surjewala, who can be the Congress candidate; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

जेपी व रणदीप सुरजेवाला का हो सकता है प्रत्याशी

ऐसे में कयास ये भी लगाए जा रहे हैं रणदीप सुरजेवाला और जेपी के बीच जो समझौता हुआ है उसका असर टिकट दिलवाने के मामले में दिख सकता है। जेपी और रणदीप सुरजेवाला दोनों की जींद में अच्छी पकड़ भी मानी जाती है। ऐसे में हो सकता है कि हाईकमान इन दोनों के प्रत्याशी पर मोहर लगा दें। इन दोनों के किसी प्रत्याशी का नाम अभी सामने नहीं आया है।

सुधीर गौतम

दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ चुके सुधीर गौतम इसी साल जनवरी के महीने में कांग्रेस के मीडिया प्रभारी एवं कैथल से विधायक रणदीप सुरजेवाला के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल हुए थे। सुधीर गौतम 2014 के विधानसभा चुनाव में बसपा के प्रत्याशी रहे हैं।

<?= Jind elections, Jind Vidhan Sabha, Pramod Sehwag, Brijmohan Singhla, Anshul Singla, former CM Bhupinder Singh Hooda, JP, Randeep Surjewala, who can be the Congress candidate; ?>, naya haryana, नया हरियाणा


बाकी समाचार