Web
Analytics Made Easy - StatCounter
Privacy Policy | About Us

नया हरियाणा

सोमवार , 22 जनवरी 2018

पहला पन्‍ना English देश वीडियो राजनीति अपना हरियाणा शख्सियत समाज और संस्कृति आपकी बात लोकप्रिय Faking Views समीक्षा

21 दिसंबर को आएगा हरियाणा में भूकंप, प्रशासन और सेना तैयार!

हरियाणा के सभी 22 जिलों में 21 दिसम्बर 2017 को प्रात: 10 बजे भूकम्प पर एक मैगा मॉक एक्सरसाइज का आयोजन किया जाएगा।  


Earthquake, administration and army ready in Haryana on December 21!, naya haryana

20 दिसंबर 2017

नया हरियाणा

हरियाणा में भूकम्प जैसी जोखिम आपदाओं में कमी लाने के 10-प्वाइंट एजेण्डे के तहत हरियाणा के सभी 22 जिलों में 21 दिसम्बर 2017 को प्रात: 10 बजे भूकम्प पर एक मैगा मॉक एक्सरसाइज का आयोजन किया जाएगा।  हरियाणा के इतिहास में पहली बार सभी जिलों में एक साथ यह एक्सरसाइज की जाएगी, जिसमें सेना, अद्र्धसैनिक बल, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड जैसी केन्द्रीय एजेंसियों के अलावा हरियाणा का आपदा प्रबन्धन से जुड़े सभी विभागों का अमला भाग लेगा। 

हरियाणा में 1720 में भूकम्प आया था, जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.8 थी और उसके बाद 1921 में भूकम्प आया था।  एनसीआर में ऊंची इमारतें व बढ़ते शहरीकरण के कारण हरियाणा भूकम्प के एक जोखिम जोन में है। इस एक्सरसाइज का उद्देश्य भी जनसाधारण को भूकम्प के बचाव के प्रति जागृत करना है। साथ ही आपदा प्रबन्धन में जुड़ी एजेंसियों की तैयारियों का आकलन भी करना है।
 गृह मंत्रालय के अधीन राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन पर गठित राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के तत्वावधान में मैगा एक्सरसाइज का आयोजन होगा तथा सेना के ऑब्जर्वर हर जिले में अपने अमले के साथ तैनात होंगे और आकलन कर सरकार को इसकी रिपोर्ट देंगे।  21 दिसम्बर को प्रात: 10 बजे सायरन बजेगा और जिलों के आपदा प्रबन्धन अमले द्वारा मॉक ड्रिल के लिए वाणिज्यिक प्रतिष्ठानो, आवासीय कॉलोनियों तथा शैक्षणिक संस्थानों को चिह्नित किया गया है।
हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डीएस ढेसी ने अपने सम्बोधन में कहा कि पिछले लगभग दो महीने से राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनन्द अरोड़ा इस मॉक ड्रिल की तैयारियों के लिए गम्भीरता से कार्य कर रही थीं और आज भी सेना व अतिरिक्त उपायुक्तों के साथ बैठक की है। उन्होंने बताया कि मॉक ड्रिल युद्ध के लिए जिस प्रकार सेना समय-समय पर अभ्यास करती रहती है, उसी तरह की यह एक्सरसाइज है। प्रदेश की जनता को भी ऐसी आपदाओं के प्रति जागरूक करना है तथा आपदा के समय राहत के लिए सरकार की तैयारियों का समीक्षा करना भी है।
 राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के सदस्य लैफ्टिनैंट जनरल (सेवानिवृत्त) एनसी मारवाह ने मैगा एक्सरसाइज के बारे जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की 8 इकाई, सेना के 6 कॉलम, अद्र्धसैनिक बलों तथा राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड जैसी केन्द्रीय एजेंसियां सभी जिलों में कूच करेंगी और भूकम्प राहत बचाव के लिए एक्सरसाइज में भाग लेंगी और सेना के ऑब्जर्वर स्वतंत्र रूप से इसका आकलन करेंगे।
 


बाकी समाचार