Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 16 जनवरी 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा प्रदेश में पहली बार बनेगा 230 किलोमीटर लंबा नेशनल हाईवे, कुरुक्षेत्र से महेंद्रगढ़ जिले तक

एनएचएआई के अधिकारियों ने किसानों को बताया कि हरियाणा प्रदेश की यह बहुत बड़ी विकास परियोजना है।

Haryana State, first 230 kilometers long National Highway, Kurukshetra to Mahendergarh district, NH 152D, naya haryana, नया हरियाणा

11 दिसंबर 2018

नया हरियाणा

हरियाणा प्रदेश में पहली बार सबसे बड़ा 230 किलोमीटर लंबा नेशनल हाईवे बनने जा रहा है । यह हाईवे कुरुक्षेत्र जिले से शुरू होकर महेंद्रगढ़ जिले के नारनौल बाईपास पर खत्म होगा, जो कि आठ जिलों को कवर करेगा।  इस नेशनल हाईवे पर 5108 करोड रुपए की धनराशि खर्च होंगी। 230 किलोमीटर लंबे इस नेशनल हाईवे का नाम एनएच 152-डी रखा गया है। हरियाणा के जींद में इस नेशनल हाईवे के निर्माण को लेकर एक बैठक की गई। जिसमें वह किसान उपस्थित थे, जिनकी जमीन नेशनल हाईवे निर्माण हेतु अधिग्रहित की गई है। बैठक में नेशनल हाईवे अथॉरिटी के अधिकारियों और जींद के डीसी ने किसानों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को जाना।
एनएचएआई के अधिकारियों ने किसानों को बताया कि हरियाणा प्रदेश की यह बहुत बड़ी विकास परियोजना है। इस विकास परियोजना के पूरा होने से प्रदेश के विकास को गति प्रदान होगी। जिन किसानों की जमीन इस परियोजना के लिए अधिग्रहण की गई है उन्हें सरकार की नई अधिग्रहण नीति के तहत मुआवजा राशि भी दी जाएगी। यदि उस जमीन पर कोई मकान, पेड़, ट्यूबवेल, कोठे व अन्य कोई निजी संपत्ति मौजूद है और वह इससे प्रभावित होती है, तो उस जमीन मालिक को इनका भी मुआवजा दिया जाएगा।
इस विकास परियोजना के लिए कुल 1826.05 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण की गई है।इस अधिग्रहित की गई भूमि की एवज में किसानों को 529 करोड़ 29 लाख  38 हजार की राशि मुआवजे के तौर पर दी जाएगी।
इस विकास परियोजना का निर्माण कार्य आनेवाले अढाई वर्षों में पूरा होगा। नेशनल हाईवे के निर्माण में पूरी तरह से नई तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। यात्रियों और किसानों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए किसानों की सुविधा के लिए 122 पुलिया व कई अंडर पास का निर्माण पास का निर्माण भी किया जाएगा। नेशनल हाईवे के दोनों तरफ किनारों पर 1,36,200 पेड़-पौधे भी रोपित किए जाएंगे। नेशनल हाईवे के निर्माण से लोगों को रोजगार व स्वरोजगार उपलब्ध होंगे। साथ ही सड़क दुर्घटना में भी कमी आएगी।
भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस प्रोजेक्ट के तहत किसानों की अधिग्रहित भूमि का मुआवजा एनएच एक्ट के तहत दिया जाएगा। इस एक्ट के तहत बाजार रेट से दो से चार गुणा ज्यादा मुआवजा का प्रावधान लागू होगा। भूमि अधिग्रहण के लिए एनएच एक्ट 1956 के तहत धारा 3A के तहत राजपत्र प्रकाशन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।


बाकी समाचार