Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 12 दिसंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

दुष्यंत चौटाला की नई पार्टी की रैली सफल होगी या असफल

क्या इनेलो की रैली का रिकार्ड तोड़ पाएगी नई पार्टी.

Dushyant Chautala, Jananayak Janata Party, New party rally will be successful or unsuccessful, naya haryana, नया हरियाणा

9 दिसंबर 2018



नया हरियाणा

 मंच पर बबिता फोगाट व महावीर फोगाट पहुच गए हैं. दिग्विजय चौटाला, अमीर चावला, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष महिला विंग   शीला भयान  व पार्टी के अन्य नेता भी मंच पर मौजूद हैं. पूर्व विधायक रमेश खटक भी मंच पर पहुंच गए हैं.
जींद रैली में लोगों ने आना शुरू कर दिया है। नाइजीरिया की लिली और कश्मीर के गुलदावरी के फूलो से जींद रैली का स्टेज सजाया गया है। कोलकता के गेंदे और और बंगलौर का जरबरा से भी सजाया गया है. 2000 गेटों से सजाये गए हैं रैली स्थल की तरफ जाने वाले रस्ते. जींद में रैली में जाने से पहले देवी लाल चौक पहुंचे दिग्विजय चौटाला ने देवी लाल की प्रतिमा पर फूल अर्पित किए थे.  दुष्यंत चौटाला की नई पार्टी का आज जीन्द की रैली में ऐलान होगा. पार्टी का नया नाम होगा- जननायक जनता पार्टी.

रैली की सभी तैयारियां पूरी हैं. रैली स्थल पर लगाई गयी है 10 बड़ी स्क्रीन. हेलीकाप्टर से पहुंचेगे दुष्यंत चौटाला.  बैठने के लिए बनाए गए हैं तीन स्टेज. एक मंच मीडिया के लिए, एक सांस्कृति कार्यक्रमों के लिए और एक मंच नेताओं के लिए. कई एकड़ जगह में होगा रैली का आयोजन. जीन्द के साथ लगते पांडू पिंडारा में आयोजित होगी यह रैली. 1986 में चौधरी देवी लाल ने जीन्द की इसी धरती से की थी न्याय युद्व की शुरूआत की थी. 32 साल बाद उनका पौता दुष्यंत चौटाला इसी धरती से शुरू कर रहे है नई पारी की शुरूआत.
 भारी संख्या मे लोगों का आना जारी है. जींद रोहतक रोड पर जाम की खबरें आ रही हैं. पूर्व विधायक निशान सिंह भी पहुंचे हैं.  पूर्व में इनलो की राष्ट्रीय अध्यक्ष रही फूलवती ,अनंतराम तंवर, पूर्व विधायक बंता राम बागड़ी भी पहुंचे हैं.

राजनीति के जानकारों की जिज्ञासा यह है कि क्या ये रैली इनेलो के पुराने रिकार्डों को तोड़ पाएगी या उनकी तुलना फ्लॉप साबित होगी. या इनेलो के कार्यकर्ता ही दो भागों में बंटकर दोनों ही कमजोर हो गए हैं. इसी तरह के सवाल आमजन के मन में उमड़ रहे हैं. आखिर दोनों दलों का भविष्य क्या रहेगा? इनेलो हरियाणा की राजनीति में अपना विशिष्ट स्थान रखती है, क्योंकि रैलियों में भीड़ लाने के मामले में वो सबसे आगे रहती है. ऐसे में नई पार्टी कितनी भीड़ जुटाती है ये देखना दिलचस्प होगा.


बाकी समाचार