Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

सोमवार , 17 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

फरीदाबाद की 60 एकड़ भूमि अधिग्रहण मुक्त

फरीदाबाद नगर निगम के 3 वार्डों में फैली 4 कालोनियों के 50,000 निवासियों को नागरिक सुविधाओं से वंचित रहना पड़ता था।

60 acres land acquisition free of Faridabad, naya haryana, नया हरियाणा

5 दिसंबर 2018



नया हरियाणा

हरियाणा सरकार द्वारा फरीदाबाद के 2 सेक्टरों के निकट की 60 एकड़ बेशकीमती भूमि को 23 साल बाद अधिग्रहण से मुक्त करने के फैसले ने यहां के भू-मालिकों को लाखों का वारे न्यारे होना तय हो गया है। इस भूमि का मुआवजा 1995 में घोषित कर दिया गया था। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा विकसित सेक्टर 2 के निकट स्थित गांव सीही और ऊंचा गांव की उक्त भूमि पर निर्मित त्रिखा कॉलोनी, भाटिया कॉलोनी, रघुबीर कॉलोनी तथा शिव कॉलोनी सहित अन्य कई कालोनियों के हजारों निवासियों का लाभान्वित होना तय है।
शहरी संपदा विभाग के प्रधान सचिव द्वारा जारी नोटिफिकेशन में उक्त भूमि को डिनोटिफाई करते हुए कहा गया है कि अधिग्रहित भूमि पर विभिन्न निर्माण सहित कई कॉलोनियां बसी हुई है। साथ ही इन कॉलोनियों की भूमि का लेआउट प्लान के अनुसार इस्तेमाल भी हो पाया। सेक्टर 2 में समय के साथ-साथ भूमि की कीमतों में भी कई गुना इजाफा हुआ है और अब इस भूमि को अधिग्रहण से मुक्त करने पर संपत्ति मालिकों को लाभ होगा। उक्त भूमि में से 42.04 एकड़ भूमि सीही में जबकि 17.79 एकड़ भूमि ऊंचा गांव में पड़ती है।
इससे पूर्व केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर तथा उद्योग मंत्री विपुल गोयल सहित कई भाजपा नेताओं ने भी खट्टर से उक्त कॉलोनी के लोगों को राहत देने की मांग की थी। इस साल के शुरू में उक्त 4 कॉलोनियों को अधिग्रहण मुक्त करने के एचएसवीपी के प्रस्ताव को खट्टर की मंजूरी के बाद यहां के निवासियों को फरीदाबाद निगम द्वारा मूल सुविधाएं प्रदान करने में आ रही दिक्कत दूर हो गई थी।

सुविधाएँ जो नहीं दे पा रहा था नगर निगम
भूमि की मलकियत को लेकर बनी अनिश्चितता के चलते फरीदाबाद नगर निगम के 3 वार्डों में फैली 4 कालोनियों के 50,000 निवासियों को नागरिक सुविधाओं से वंचित रहना पड़ता था। क्योंकि यह भूमि 'तकनीकी और कानूनी' रूप से अधिग्रहण के अधीन थी। इसीलिए यहां की कॉलोनियों को नगर निगम यह सुविधाएं नहीं दे सकता।


बाकी समाचार