Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

रविवार, 16 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

दुष्यन्त चौटाला की नई पार्टी का नाम होगा जननायक जनता पार्टी (JJP)

25 फाउंडर सदस्य होंगे पार्टी में, 9 को जींद में विधिवत ऐलान होगा.

Dushyant Chautala, the name of the new party, Jananayak Janata Party (JJP), Digvijaya Chautala, Ajay Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

4 दिसंबर 2018

नया हरियाणा

हिसार से सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला पारिवारिक ग्राउंड को छोड़कर खुद के प्लेटफार्म पर बैटिंग करते नजर आएंगे। उनकी नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) नई राजनीतिक पार्टी के रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर चुकी है। अगले दो-तीन दिन में उनकी पार्टी को रजिस्ट्रेशन का सर्टिफिकेट भी मिल जाएगा। 
दुष्यंत सिंह चौटाला जींद के ऐतिहासिक पांडू-पिंडारा गांव से नई पार्टी का आगाज करेंगे। पार्टी के चुनाव चिन्ह पर भी लगभग मंथन हो चुका है। पार्टी सिंबल के जरिए किसानों-मजदूरों के साथ आम लोगों को रिझाने की कोशिश भी रहेगी।
दुष्यंत के कोर ग्रुप की ओर से किए गए आवेदन में नई पार्टी के लिए सबसे टॉप पर जननायक जनता पार्टी को ही रखा गया है। चुनाव आयोग के रिकॉर्ड में इस तरह की कोई राजनीतिक पार्टी पहले से पंजीकृत नहीं है। ऐसे में चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार दो अन्य नाम भी उन्होंने आवेदन फॉर्म में विकल्प के तौर पर भरे हैं। इनमें दूसरा नाम जननायक प्रोग्रेसिव पार्टी और तीसरा नाम जननायक जनता दल बताया गया है। इससे पहले ही बनाया जा चुका गैर-राजनीतिक संगठन जननायक सेवादल पहले की तरह काम करता रहेगा।
9 दिसंबर को जींद में होने वाले समस्त हरियाणा सम्मेलन की तैयारियों में जुटे दुष्यंत सिंह चौटाला के अलावा उनके छोटे भाई व इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला बीजेपी के फाउंडर सदस्यों में शामिल हैं। कुल 25 सदस्यों के नामों की सूची नई पार्टी के रजिस्ट्रेशन फॉर्म के साथ लगाई गई है। पूर्व सांसद डॉ. अजय सिंह चौटाला परिवार के करीबियों में शामिल एक व्यक्ति के नाम पर नई पार्टी का रजिस्ट्रेशन होगा।
दुष्यंत चौटाला एक ऐसे नेता है जिनकी नई पार्टी के गठन से पहले ही दो संगठन चल रहे हैं। छात्र संगठन के तौर पर इनसो काम कर रहा है और गैर-राजनीतिक संगठन के तौर पर जननायक सेवादल को बहुत पहले एक्टिव किया जा चुका है। जननायक सेवादल में भी 30 हजार के करीब सदस्य जुड़ चुके हैं। इन सभी सदस्यों ने लिख कर दिया है कि वे अगले 5 वर्षों तक किसी तरह का भी चुनाव नहीं लड़ेंगे। हालांकि इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने इनसो की राष्ट्रीय और प्रदेश कार्यकारिणी को भंग करने का ऐलान कर दिया था। लेकिन दिग्विजय सिंह चौटाला ने साफ कहा कि इनसो का इनेलो से कोई ताल्लुक नहीं है और ओम प्रकाश चौटाला के पास इसे भंग करने का अधिकार भी नहीं है।


बाकी समाचार