Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

मुख्यमंत्री उपलब्धि की नहीं किसको ठोकना है इस पर बात करें : चौधरी बीरेंद्र सिंह

उन्होंने कहा कि केजरीवाल की हरियाणा में चुनाव लड़ना बीजेपी के लिए फायदेमंद रहेगा.

Chief Minister Manohar Lal, Kejriwal, Chaudhary Birender Singh, naya haryana, नया हरियाणा

3 दिसंबर 2018

नया हरियाणा

केंद्रीय मंत्री चौधरी वीरेंद्र सिंह डूमरखा अपने कार्यकर्ता के घर आने पर पहुंचे, वहां  पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि नगर निगम चुनाव में कांग्रेश द्वारा सिंबल पर चुनाव नहीं लड़ने पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कांग्रेसी नेताओं के मन में यह डर है कि कभी उनकी बात उल्टी ना पड़ जाए. वह घबराए हुए हैं. भारतीय जनता पार्टी को उन्होंने एक अनुशासित पार्टी बताया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में एक-दूसरे के विरोधियों की भरमार है. बीजेपी ने उन्हीं प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है जिनकी जीतने की प्रबल संभावना है. इसमें आम कार्यकर्ता को भी टिकट दी गई है और जीतने वाले नए पार्टी में शामिल हुए कार्यकर्ता पर भी दाव लगाया गया है.

पानीपत के प्रत्याशी के बारे में बोलते हुए कहा उनकी नजर में  यह सशक्त उम्मीदवार हैं. अपनी राजनीति पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा पार्टी उन्हें केंद्र में रखें या राज्य की राजनीति के लिए कहे यह पार्टी पर निर्भर करता है, लेकिन वह हरियाणा में जहां पार्टी की स्थिति कमजोर है उसको सशक्त बनाने में खुद को दूसरों से ज्यादा सक्षम मानते हैं. इसलिए वह संगठन में भी काम करने के इच्छुक हैं.

चौधरी बीरेंद्र सिंह डूमरखा ने केजरीवाल के हरियाणा में राजनीति के सवाल पर कहा कि केजरीवाल जी का हरियाणा की राजनीति में उतरना बीजेपी के लिए फायदेमंद होगा क्योंकि जितने दावेदार ज्यादा होंगे राष्ट्रीय पार्टी की जीत की स्थिति उतनी मजबूत होगी. वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि वह अपने भाषण में केवल राजनीति की बात करें और किस को ठोकना है इस पर बात करें. उपलब्धि की बातें 4 साल बहुत हो चुकी. अब सिर्फ राजनीति पर बातें की जानी चाहिए. वह स्वयं केवल राजनीति पर बातें कर रहे हैं. दूसरी ओर  मोदी की लहर पर बात करते हुए कहा  कि  एक बात की जनसाधारण में सहमति है की मोदी को एक चांस और देना चाहिए. और तो और जाट भी अब की बार मोदी को वोट देंगे. नगर निगम में पुराने कार्यकर्ताओं को टिकट ना देने के सवाल पर टिप्पणी करते हुए कहा कि  46 साल हो गए  मुझे इस धंधे में .मुझे भी लोग कांग्रेस में रहते हुए  इस तरह से बात करते थे की चौधरी साहब 20 साल हो गए आपको दरिया बिछाते हुए. आपको कुछ नहीं मिला तो. उन्होंने कहा कि कइयों का काम यही है और कईयों का काम नेतागिरी करने का होता है. जब उनसे दूसरे राजनीतिज्ञों की तरह अपने बेटे को राजनीति में प्रोजेक्ट करने की बात की गई तो उन्होंने जवाब दिया वह एक आईएस ऑफिसर है. उसका अगर मन होगा तो मुझे कोई एतराज नहीं लेकिन फैसला उसी का होगा मेरा नहीं. बेटे के मन को टटोलने की बात पर उन्होंने कहा राजनीति में उनका परिवार चार पीढ़ियों से है. कुछ ना कुछ तो उसके अंदर राजनीति की इच्छा तो होगी.


बाकी समाचार