Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

पलवल में यूरिया खाद के लिए महिलाओं को लगना पड़ा लाइनों में

जहां प्रदेश की सरकार एक तरफ किसानों की आय को दुगना करने को लेकर नई नई योजनाओं पर काम कर रही है।

Palwal, hodal, urea manure, farmers are having trouble, women had to get into lines, naya haryana, नया हरियाणा

2 दिसंबर 2018

नया हरियाणा

जहां प्रदेश की सरकार एक तरफ किसानों की आय को दुगना करने को लेकर नई नई योजनाओं पर काम कर रही है। लेकिन किसानों को उसकी फसल के लिए यूरिया खाद तक नहीं मिल रहा है। ऐसा ही मामला पलवल के होडल में सामने आया है। जहाँ पर खाद के लिए महिलाओं को भी लाइनों में लगना पड़ रहा है। लेकिन उसके बाद भी महिलाओं को खाद नहीं मिल रहा है। गेंहू की फसल की बिजाई से लेकर यूरिया के दाने दाने के लिए किसान मारे मारे फिर रहे है और आपस मे लाइनों में खड़े होकर एक दूसरे को धक्का मुक्की कर रहे हैं। यूरिया की किल्लत को लेकर दो किसानों में कहासुनी भी हो गई। जिसको लेकर मौके पर पुलिस को बुलाना पड़ा और पुलिस ने सही तरीके से किसानो को लाइनों में खड़े किया और खाद को बटवाया ! आज सरकारी खाद एजेंसी इफको पर 3300 के करीब यूरिया खाद के कट्टे किसानों को वितरण करने के लिए आये और सुबह 5 बजे से ही महिला ,पुरुष किसान लाइनों में लग गए और खाद एजेंसी के अधिकारी 9 बजे केंद्र पर पहुंचे और किसान और महिलाऐं अपने काम धंधे को छोड़कर खाद के लिए इतनी जल्दी लाइनों में लग गए। 

लेकिन उसके बाद भी खाद का वितरण ठीक प्रकार से नही हो पाया और एजेंसी के अधिकारीयों को मौके पर पुलिस बुलानी पड़ी। क्योंकी भीड़ बढ़ने लगी तो किसान आपस मे खाद की मारामारी को लेकर आगे आने लगे और मामला यहां तक बढ़ गया कि किसानों में झगड़ा होने लगा। बाद में इफ्को वितरण एजेंसी को पुलिस बुलानी पड़ी । खाद के लिए किसानो को महिलाओं का भी सहारा लेना पड़ रहा है ।किसानों का कहना है कि खेत मे खाद को लेकर उन्हें सुबह 5 बजे से लाईन में लगना पड़ रहा है। लेकिन खाद नही मिल पा रहा है। किसानों का कहना है की सरकार की गलत नीतियों के चलते खाद के एक एक दाने के लिए लाईन में लगना पड़ रहा है। सरकार किस तरह से किसानों की दुगनी आय कर पायेगी। सरकार को चार साल बीत चुके और सरकार खाद की पूर्ति नही कर पाई।


बाकी समाचार