Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 23 जून 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा में हुई इंटरव्यू प्रथा खत्म, पढ़ाकुओं की होगी मौज़

हरियाणा में ग्रुप सी व डी के पदों के लिए केवल लिखित परीक्षा होगी और अब इंटरव्यू की प्रथा बंद हो जाएगी।

Interview practice ended in Haryana;, naya haryana, नया हरियाणा

15 दिसंबर 2017

नया हरियाणा

हरियाणा के मुख्य सचिव द्वारा आज इस आशय की एक अधिसूचना जारी की गई है। अधिसूचना के अनुसार ग्रुप सी व डी के पदों पर चयन के संबंध में परीक्षा के कुल अंक 100 होंगे, जिनमें 90 अंकों की लिखित परीक्षा और सामाजिक-आर्थिक मानदण्ड तथा अनुभव के 10 अंक शामिल हैं। अधिसूचना के अनुसार अनुभव तथा कुछ वस्तुनिष्ठï सामाजिक-आर्थिक मानदण्ड के लिए निम्नानुसार अंक आबंटित किए गए हैं।
        यदि आवेदक के पिता, माता, पति-पत्नी, भाई, बहनों, बेटों और बेटियों में से कोई भी व्यक्ति हरियाणा सरकार या किसी अन्य राज्य सरकार या भारत सरकार के किसी भी विभाग, बोर्ड, निगम, कम्पनी, वैधानिक निकाय, आयोग और प्राधिकरण में नियमित कर्मचारी नहीं है, तो इसके लिए 5 अंक निर्धारित किए गए हैं। इसी प्रकार, अनाथ, विधवा के सम्बन्ध में यदि आवेदक एक विधवा है या यदि आवेदक प्रथम या द्वितीय बालक है और उसके पिता की मृत्यु 42 वर्ष पूरी होने से पहले हो गई हो, यदि आवेदक प्रथम या द्वितीय बालक है और आवेदक के 15 वर्ष की आयु पूरी होने से पहले उसके पिता की मृत्यु हो गई हो, तो इसके लिए 5 अंक निर्धारित किए गए हैं।
        इसके अतिरिक्त, यदि आवेदक ऐसी अनअधिसूचित जनजाति (विमुक्त जाति और टपरीवास जाति) या हरियाणा के घुमंतू जनजाति से सम्बन्धित है, जो न तो अनुसूचित जाति है और न ही पिछड़ा वर्ग है, के सम्बन्ध में 5 अंक निर्धारित हैं तथा हरियाणा सरकार के किसी भी विभाग, बोर्ड, निगम, कम्पनी, वैधानिक निकाय, आयोग और प्राधिकरण में अधिकतम 10 वर्ष में से अनुभव के प्रत्येक एक वर्ष या 6 मास से अधिक के उसके भाग के लिए आधा (=0.5) अंक। 6 मास से कम की किसी अवधि के लिए कोई भी अंक नहीं दिया जाएगा। इसके लिए अधिकतम 5 अंक आबंटित किए गए हैं।
        किसी भी आवेदक को किसी भी परिस्थिति में 10 अंकों से अधिक अंक नहीं दिए जाएंगे और लिपिक के पद के लिए कम्प्यूटर एपरीशिएशन तथा एप्लीकेशन में राज्य पात्रता परीक्षा अनिवार्य होगी।
        विद्यालय शिक्षा विभाग में अध्यापक, शैक्षिक निरीक्षक तथा अध्यापक शिक्षक के पदों के लिए आयोग केवल लिखित परीक्षा के आधार पर गु्रप बी और ग्रुप सी से सम्बन्धित उम्मीदवारों का चयन करेगा और नामों की सिफारिश करेगा।
        लिखित परीक्षा को दो भागों में विभाजित किया गया है, जिसमें सामान्य ज्ञान, विवेक बुद्धि, गणित, विज्ञान, अंग्रेजी, हिंदी तथा यथालागू सम्बद्ध या सुसंगत विषय के लिए 75 प्रतिशत अधिमान तथा हरियाणा के इतिहास, सामायिक वर्तमान मामले, साहित्य, भूगोल, नागरिक शास्त्र, पर्यावरण, संस्कृति इत्यादि के लिए 25 प्रतिशत अधिमान होगा। इसी प्रकार, इसे अर्हक करने के लिए उम्मीदवारों को कम से कम 50 प्रतिशत अंक लेने होंगे और प्रश्नों का अनुपात आयोग द्वारा उसके अपने स्तर पर विनिश्चित किया जाएगा।
        गु्रप डी के पदों के सम्बन्ध में उम्मीदवारों के चयन और किसी विभाग या कार्यालय में नामों की सिफारिश के मामले में केवल लिखित परीक्षा होगी। साक्षात्कार की प्रथा बंद हो जाएगी। गु्रप डी के पदों पर चयन के सम्बन्ध में अंकों की स्कीम में कुल 100 अंक शामिल होंगे, जिसके अनुसार लिखित परीक्षा के 90 अंक और सामाजिक-आर्थिक मानदण्ड व अनुभव के 10 अंक शामिल हैं. अधिसूचना के अनुसार अनुभव तथा कुछ वस्तुनिष्ठï सामाजिक-आर्थिक मानदण्ड के लिए निम्नानुसार अंक आबंटित किए गए हैं. यदि आवेदक के पिता, माता, पति-पत्नी, भाई, बहनों, बेटों और बेटियों में से कोई भी व्यक्ति हरियाणा सरकार या किसी अन्य राज्य सरकार या भारत सरकार के किसी भी विभाग, बोर्ड, निगम, कम्पनी, वैधानिक निकाय, आयोग और प्राधिकरण में नियमित कर्मचारी नहीं है, तो इसके लिए 5 अंक आबंटित किए गए हैं। इसी प्रकार, अनाथ, विधवा के सम्बन्ध में यदि आवेदक एक विधवा है या यदि आवेदक प्रथम या द्वितीय बालक है और उसके पिता की मृत्यु 42 वर्ष पूरी होने से पहले हो गई हो, यदि आवेदक प्रथम या द्वितीय बालक है और आवेदक के 15 वर्ष की आयु पूरी होने से पहले उसके पिता की मृत्यु हो गई हो, तो इसके लिए 5 अंक आबंटित किए गए हैं।इसके अतिरिक्त, यदि आवेदक ऐसी अनअधिसूचित जनजाति (विमुक्त जाति और टपरीवास जाति) या हरियाणा के घुमंतू जनजाति से सम्बन्धित है, जो न तो अनुसूचित जाति है और न ही पिछड़ा वर्ग है, के सम्बन्ध में 5 अंक आबंटित हैं तथा हरियाणा सरकार के किसी भी विभाग, बोर्ड, निगम, कम्पनी, वैधानिक निकाय, आयोग और प्राधिकरण में अधिकतम 10 वर्ष में से अनुभव के प्रत्येक एक वर्ष या 6 मास से अधिक के उसके भाग के लिए आधा (=0.5) अंक। 6 मास से कम की किसी अवधि के लिए कोई भी अंक नहीं दिया जाएगा। इसके लिए अधिकतम 5 अंक आबंटित किए गए हैं। किसी भी आवेदक को किसी भी परिस्थिति में 10 अंकों से अधिक अंक नहीं दिए जाएंगे।
 

Tags:

बाकी समाचार