Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 25 अप्रैल 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

पलवल के पांच स्कूलों के नाम होंगे शहीदों के नाम पर

सरकार ने अनेक योजनाएं बनाकर शहीदों व उनके परिजनों को मान-सम्मान देने का कार्य किया है।

Palwal district, names of five schools, will be named after martyrs, naya haryana, नया हरियाणा

30 नवंबर 2018



नया हरियाणा

हरियाणा सरकार ने शहीदों का मान-सम्मान बढ़ाने के लिए पलवल के पांच गांवों के राजकीय स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर करने की मंजूरी दी है। सरकार द्वारा शहीदों के नाम पर स्कूलों का नामकरण करने के फैसले का गांव के सरपंचों व ग्रामीणों ने स्वागत किया है।  जिला शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा ने बताया कि हरियाणा सरकार ने पलवल जिला के राजकीय स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर करने की स्वीकृति दी है, उनमें गांव खेटला सराय के स्कूल का नाम शहीद मंगल सिंह राजकीय मिडल स्कूल, गांव छज्जूनगर के स्कूल का नाम शहीद दीवान ङ्क्षसह राजकीय हाई स्कूल, गांव चांदहट के स्कूल का नाम शहीद सुभाष राजकीय सीनियरा सेकेंडरी स्कूल, गांव घसैड़ा के स्कूल का नाम शहीद धर्म सिंह राजकीय प्राइमरी स्कूल तथा गांव असावटा के स्कूल का नाम शहीद महिपाल सिंह राजकीय स्कूल असावटा किया गया है। हरियाणा सरकार ने शहीदों को सम्मान दिया है। स्कूल में पढने वाले विद्यार्थीयों को शहीदों के जीवन से प्रेरणा मिलेगी। 

 गांव असावटा के सरपंच योगेश कुमार ने बताया कि सरकार ने अनेक योजनाएं बनाकर शहीदों व उनके परिजनों को मान-सम्मान देने का कार्य किया है।  मुख्यमंत्री के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से अनुरोध किया था कि पलवल के पांच गांवों के राजकीय स्कूलों का नाम गांव के शहीदों के नाम पर रखा जाए। मुख्यमंत्री ने उनके इस अनुरोध को तुरंत स्वीकार किया तथा वीर शहीदों की देशहित में दी कुर्बानी के लिए इन स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर रखने की स्वीकृति प्रदान कर पलवल के लोगों की भावनाओं को पूरा मान-सम्मान देने का कार्य किया है। स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर करने पर स्कूल में पढने वाले बच्चों में भी देश भक्ति जागेगी। पहले गांव के शहीद को कोई नहीं जानता था लेकिन स्कूल का नाम शहीद के नाम पर रखने पर स्कूल में पढने वाले बच्चों के साथ साथ ग्रामीणों को शहीद के बारे में पता चलेगा। शहीदों के नाम पर स्कूलों का नाम रखने से गांव के लोगों में खुशी की लहर है तथा सभी ने सरकार के इस फैसले को सराहनीय कदम बताया है।


बाकी समाचार