Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

अभय चौटाला को छोड़ ओमप्रकाश चौटाला होंगे हमारे झंडे व डंडे के साथ : दुष्यंत चौटाला

चाचा-भतीजे के बीच बयानबाजी लगातार बढ़ती जा रही है.

Abhay Chautala, Om Prakash Chautala, Dushyant Chautala, naya haryana, नया हरियाणा

26 नवंबर 2018

नया हरियाणा

इनेलो के भीतर मचे घमासान की झलक अब चाचा भतीजे के बयानों में साफ नजर आने लगी है. जहां एक तरफ हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपने चाचा अभय चौटाला पर वार करते हुए कहा कि विधानसभा में विपक्ष के नेता जल्दी ही अकेले रह जाएंगे. क्योंकि वह हरियाणा में ऐसे हालात पैदा कर देंगे कि स्वयं पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला भी हमारे  झंडे और डंडे का प्रचार-प्रसार करेंगे.

उन्होंने कहा कि हरियाणा में फिर से इतिहास दोहराया जाएगा क्योंकि ऐसा पहले भी हुआ है. जब पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय देवीलाल ने उनके दादा ओमप्रकाश चौटाला से संबंध विच्छेद कर लिया था और फिर हालात ऐसे बने कि स्वयं देवीलाल ने ही ओम प्रकाश चौटाला को अपना वारिस घोषित किया और हरियाणा में फिर से वही इतिहास दोराहा जाएगा.
दूसरी तरफ नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने अपने भाई अजय चौटाला व भतीजों सांसद दुष्यंत चौटाला व युवा नेता दिग्विजय पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि इनेलो को तोड़ने के लिए पहले ही साजिश रची जा रही थी. उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि अजय सिंह चौटाला भी सौदेबाजी करता है और भाई व पिता के खिलाफ षड्यंत्र रच सकता है.

उन्होंने आरोप लगाया कि युवा सांसद व युवा नेता दिग्विजय चौटाला ने तो पहले ही भाजपा हरियाणा प्रभारी अनिल जैन, पूर्व सीएम हुड्डा, कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा, विधायक करण सिंह दलाल से मुलाकात कर पार्टी को तोड़ने की साजिश रची थी. उन्होंने कहा कि जल्द ही सबूतों के साथ खुलासा किया जाएगा. आखिर किस में कितना दम है यह बात लोगों को पता चल जाएगी.

पूर्व सीएम हुड्डा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 10 साल के शासन में केवल किसानों की बेशकीमती जमीन हड़पने का काम किया है. पूर्व सीएम हुड्डा के खिलाफ पहले भी एफ आई आर दर्ज हो चुकी हैं. जिसके सबूत भी हम भाजपा सरकार को सौंप चुके हैं लेकिन अभी तक हुड्डा के खिलाफ सरकार ने कोई कार्यवाही नहीं की. जिससे साफ है कि सिर्फ नूरा कुश्ती का खेल चल रहा है और मनोहरलाल सीधे-सीधे पूर्व सीएम हुड्डा को बचा रहे हैं. नहीं तो वह अभी तक जेल की हवा खा रहे होते. इनेलो बसपा की सरकार बनते ही उड़ा से 10 साल का हिसाब मांगा जाएगा.


बाकी समाचार