Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

खट्टर सरकार में विदेशी पूंजी निवेश हुआ ठप, सरकार का नकारापन हुआ उजागर

सरकारी विदेशी दौरों और हैपनिंग हरियाणा के नाम पर करोड़ों रुपए उड़ाने की पोल खुली.

Chief Minister Manohar Lal, Khattar Government, two years did not come, no investment, foreign capital investment stalled, government's disinvestment exposed, Randeep Singh Surjewala, naya haryana, नया हरियाणा

25 नवंबर 2018

नया हरियाणा

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की कोर कमेटी के सदस्य रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि प्रदेश की वर्तमान खट्टर सरकार की लचर और नाकारा कार्यप्रणाली के कारण हरियाणा में विदेशी पूंजी निवेश बिल्कुल समाप्त हो गया है। मुख्यमंत्री खट्टर व उनके मंत्रियों ने एक के बाद एक अनेक विदेशी दौरे की फिजूलखर्ची करके प्रदेश की जनता के पैसे को तो पानी की तरह बहाया, लेकिन पिछले दो सालों से प्रदेश में एक भी नया विदेशी पूंजी निवेश नहीं हुआ। 

हरियाणा स्टेट इंडस्ट्रियल एवं इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कारपोरेशन द्वारा आरटीआई के जवाब में दी गयी जानकारी का हवाला देते हुए हरियाणा के पूर्व उद्योग मंत्री सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले दो वर्षों में विदेशी निवेश 2009 से लेकर 2011 तक 1,086 करोड़ था, जो 2012 से लेकर 2014 में दोगुना से ज्यादा होकर 2,495 करोड़ जा पहुंचा था। वहीं हरियाणा की खट्टर सरकार के सत्ता संभालने के बाद 2015 से 2016 के बीच प्रदेश में सिर्फ 92 करोड़ ही निवेश आ पाया और 2016 से 2017 के बीच  यह आंकड़ा घटकर 41 करोड़ पर आ गया। 2017 से अब तक तो हरियाणा प्रदेश में एक रूपये का भी विदेशी निवेश नहीं आया है, जो नाकारा, निकम्मी और पंगु खट्टर सरकार की पोल खोलता है। 

सुरजेवाला ने कहा कि खट्टर सरकार ने प्रदेश में विदेशी पूंजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं लागू करने और हैपनिंग हरियाणा का खूब ढिंढोरा पीटा, तो दर्जनों बार विदेशी दौरे करके प्रदेश की जनता की खून पसीने की कमाई को सैर सपाटे में उड़ाया गया। लेकिन अब आरटीआई के जवाब से मुख्यमंत्री, मंत्रियों और अफसरों के भारी भरकम प्रतिनिधिमंडलों के सरकारी विदेशी दौरों और हैपनिंग हरियाणा के नाम पर करोड़ों रुपए फूंकने से प्रदेश को कोई फायदा न होने की पोल खुल गयी है। कांग्रेस की सरकार ने प्रदेश को विकास और निवेश में नंबर एक बनाया था लेकिन अब भाजपा सरकार ने अपने सवा चार वर्ष के काले कार्यकाल में प्रदेश को विकास में शून्य बना दिया है, जिससे प्रदेश की युवा पीढ़ी को बेरोज़गारी की चोट लगी है।

सुरजेवाला ने कहा कि निवेश के लिए प्रदेश में शांति, सद्भाव और अच्छी कानून व्यवस्था की जरूरत होती है, जिसे बनाये रखने में खट्टर सरकार बिलकुल असफल रही है। भाजपा ने प्रदेश को जाति, धर्म-मज़हब के आधार पर बांटने वाले गुजरात मॉडल के चलते हर वर्ष दंगे करवाए, जिससे हरियाणा का नाम राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदनाम हुआ और लगातार आ रहा विदेशी निवेश ठप्प पड़ गया।

सुरजेवाला ने मुख्यमंत्री खट्टर पर सवाल दागते हुए कहा कि उनके अमेरिका, कनाडा, जापान, चीन, सिंगापुर, हांगकांग, इजराइल, यूके और दुबई के दौरे के अलावा हैपनिंग हरियाणा, प्रवासी सम्मेलन और रोड-शो से कितना निवेश आया, यह मुख्यमंत्री को प्रदेश की जनता को बताना चाहिए। छह लाख करोड़ रुपये के नए निवेश के दावे पूरी तरह खोखले साबित हुए हैं। 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के विदेशी दौरों और हरियाणा में विदेशी निवेश के नाम पर आयोजित सम्मेलनों की जांच करवाने की जरूरत है, ताकि हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश की जनता की गाढ़ी कमाई के करोड़ों रुपयों के हुए खर्च के फर्जीवाड़े का खुलासा हो सके।

सुरजेवाला ने कहा कि इस खुलासे से जनता की गाढ़ी कमाई से विज्ञापन देकर ईज ऑफ़ डूइंग बिजनेस का झूठा प्रचार कर रही इस सरकार के फर्जीवाड़े का भी खुलासा हो गया है।


बाकी समाचार