Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

7 महीने का गोलू नाम के अम्बर सरी नस्ल के बकरे की कीमत है 25 लाख

बकरे के दोनों कानो पर मुस्लिम धर्म से पवित्र शब्द लिखे होने के कारण आज इस 7 महीने के बकरे की कीमत 25 लाख तक पहुुंच गई है।

Golu, 7 months old goose goose, worth 25 lakhs, Radar, both ears of goat, due to being written holy words from Muslim religion, the goat's owner Mangatram, naya haryana, नया हरियाणा

22 नवंबर 2018

नया हरियाणा

 रादौर के छोटाबांस में रहने वाले मंगतराम के पास एक 7 महीने का गोलू नाम का अम्बर सरी नस्ल का बकरा है। जिसके एक कान पर जन्म से ही उर्दु में अल्हा हु मौहम्मद व दूसरे कान पर अरबी भाषा में मौहम्मद लिखा हुआ है। बकरे के दोनों कानो पर मुस्लिम धर्म से पवित्र शब्द लिखे होने के कारण आज इस 7 महीने के बकरे की कीमत 25 लाख तक पहुुंच गई है। लेकिन बकरे का मालिक मंगतराम किसी भी कीमत पर अपने बकरे को बेचने के लिए तैयार नहीं है। बकरे को खरीदने के लिए उत्तरप्रदेश के सहारनपुर, लखनऊ तक के लोग आ चुके हैं। इसके अलावा बकरे को खरीदने के लिए साऊदी अरब तक के लोग उससे संपर्क साध रहे हैं। लेकिन  वह बकरे को अपने लिए शुभ मानते हुए उसे किसी भी कीमत पर बेचने को तैयार नहीं है।

 बकरे के मालिक मंगतराम ने बताया कि उन्होंने लगभग 7 महीने पहले पंजाब के पटियाला शहर से 6 बकरे के बच्चे 2400 रूपए प्रति बकरे के हिसाब से खरीदे थे। जिनमें से एक बकरे के बच्चे की मौत हो गई थी। बाकि पांच उसके पास सलामत हैं। इन पांच बकरों में से एक बकरे के दोनों कानो पर उर्दु व अरबी में जन्म से ही मुस्लिम धर्म के पवित्र शब्द लिखे हुए हैं। उसे इस बात का पता उस समय लगा जब एक दिन उनके घर के पास के एक एक ईंट भठ्ठे पर रहने वाला साजिद नाम का एक व्यक्ति किसी काम से आया हुआ था, उस वक्त वह अपने इस बकरे को दाना डाल रहा था, तो उसने देखा कि बकरे के दोनों कानों पर उर्दू भाषा में कुछ लिखा हुआ है।

साजिद ने बकरे के कान पर लिखे हुए शब्द उन्हें बताए तो उन्हें यकीन नहीं आया कि उनके घर पर जो बकरा पल रहा है उसके कानो पर इतने पवित्र शब्द प्राकृतिक तौर पर लिखे हुए हैं। बकरे के कानों पर प्राकृतिक तौर से पवित्र शब्द लिखे जाने की जानकारी जब मुस्लिम समाज के लोगों को लगी तो उन्होंने उससे संपर्क साधा। इसी दौरान सहारनपुर से मुस्लिम समाज का एक व्यक्ति 25 लाख रूपए लेकर उसके बकरे को खरीदने पहुंचा।  लेकिन मंगतराम का मन नहीं माना कि इतने पवित्र बकरे को बेचा जाए। उसने 25 लाख की रकम वापिस कर दी। मंगतराम ने बताया कि वह अपने बकरे को बडी हिफाजत से रखता है। उसे खाने में चना, मक्की, गेंहू, फल देता है। उसने बताया कि इससे पहले इसी प्रकार का बकरा दिल्ली में 5 करोड रूपए तक में बिक चुका हेै। वह अपने बकरे को जान से ज्यादा संभाल  कर रखता है। मंगतराम के गोलू बकरे की चर्चा पुरे क्षेत्र में जोरो शोरो पर है। 

तसवीर गूगल से साभार


बाकी समाचार