Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 15 अक्टूबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

फसल बीमा कंपनियों ने हरियाणा में कमाए 167 करोड़ रुपए

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का फायदा किसानों को कम कंपनियों को ज्यादा मिल रहा है.

Crop insurance companies, Haryana earned Rs 167 crores, Prime Ministers crop insurance scheme, loss to farmers, gains to companies, naya haryana, नया हरियाणा

14 नवंबर 2018



नया हरियाणा

देश में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से 2 बरसों में 85 लाख किसानों ने छोड़ दिया है। इनमें से 68 लाख किसान केवल चार राज्यों के हैं।  पानीपत के आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर की ओर से आरटीआई के तहत ली गई जानकारी में यह चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने कपूर को आरटीआई के तहत देश के अनेक राज्यों की सूचना मुहैया कराई है। कपूर ने आरटीआई के तहत मिली जानकारी के अनुसार बताया कि सरकारी क्षेत्र की एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी इंडिया के अलावा कुछ निजी कंपनियों ने इस योजना से 2 साल में कुल 15.75 करोड़ कमाए हैं.
 चार बड़े राज्यों मध्य प्रदेश 2.90 लाख, राजस्थान 31.25 लाख महाराष्ट्र 19.47 लाख  व उत्तर प्रदेश में 14.69 लाख किसानों का योजना से मोह भंग हुआ है। वर्ष 2016-17 में बीमा कंपनियों की औसत कमाई 538.30 करोड रुपए रही है. वर्ष 2018 में यह औसत कमाई प्रति माह  778 करोड रुपए प्रतिमाह हो गई।
 वर्ष 2017 में 5.72 करोड कुल किसान बीमा कृत किए गए तो वर्ष 2018 में इनकी संख्या 85 लाख घटकर 4.87 करोड रह गई है.
 बीमा कंपनियों को वर्ष 2016-17 में वार्षिक मुनाफा कुल 6459.64 करोड़ रु हुआ तो वर्ष 2018 में बीमा कंपनियों के मुनाफे में 150% की वृद्धि हो कर यह राशि 9335 62 करोड़ तक जा पहुंची।
हरियाणा में 2 वर्ष में बीमा कृत किसानों की संख्या में 15,228 की वृद्धि हुई है. जहां वर्ष 2016-17 में बीमाकृत किसानों की कुल संख्या 1336028 थी। वहीं वर्ष 2017-18 में यह बढ़कर 1351256 हो गई है. वर्ष 2016-17 में किसानों से कुल 364.39 करोड रुपए प्रीमियम राशि वसूल कर कुल 292.55 करोड रुपए की मुआवजा राशि दी गई. वर्ष 2017 में बीमा कंपनियों ने कुल 453 करोड रुपए का प्रीमियम वसूला जबकि किसानों को मुआवजे में 358 करोड रुपए प्रदान किए.


बाकी समाचार