Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 14 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

नोटबंदी से 67 प्रतिशत नए कर दाता अर्थव्यवस्था के साथ जुड़े : कैप्टन अभिमन्यु

भारत जल्द ही दुनिया की 5 वें नंबर की अर्थव्यवस्था बनने वाला है.

Haryana Government, Finance Minister Captain Abhimanyu, India, the worlds fifth largest economy, naya haryana, नया हरियाणा

9 नवंबर 2018

नया हरियाणा

नोट बंदी को लेकर हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि दो साल पहले एक एतिहासिक निर्णय किया गया था. पुराने नोटों को बदलने का जो ऐतिहासिक निर्णय हुआ था उससे पहले भारत में 15 लाख करोड़ का कोई हिसाब नहीं था. भारत की अर्थव्यवस्था में इन पैसों के आने से रिकॉर्ड में आ गया कि पैसा किसका था और अब उस मलिक की जानकारी सामने आई.
उन्होंने कहा कि 67 प्रतिशत नए कर दाता अर्थव्यवस्था के साथ जुड़े. भारत जल्द ही दुनिया की 5 वें नंबर की अर्थव्यवस्था बनने वाला है.
कैप्टन अभिमन्यु ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के लोग गरीब को गरीब और कमजोर को कमजोर रखते रहे हैं. नगद का लेन देन चलता रहे ये कोशिश विपक्ष के लोग करते रहे हैं. इसके चलते ही देश कमजोर हुआ है.
उन्होंने बताया कि कांग्रेस ने देश को ईज़ ऑफ़ डूइंग बिजनेस के हिसाब से 142 वें स्थान पर रखा था और मोदी जी के कार्यकाल में हम 142 से 77 वें स्थान पर आ गये. कांग्रेस के लोग चार साल में मोदी जी पर ऊँगली नहीं उठा पाए. 
उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास देश लिए कोई नीति नहीं है. कांग्रेस के पास विचारधारा नहीं है. कांग्रेस केवल देश और नरेंद्र मोदी को कमजोर करने की कुचेष्टा कर रहे हैं, लेकिन जनता इनकी सच्चाई को जान चुकी है. इनके हाथ में कुछ नहीं आने वाला है.
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा जीएसटी को लागू करने का निर्णय मोदी जी के अलावा कोई नहीं कर पाया था. विमुद्रीकरण का दो साल पहले जो फैसला हुआ था उसने देश की अर्थव्यवस्था में ऊँची छलांग लगाने का प्लेटफॉर्म तैयार किया.
इनेलो के विवाद पर बोलते हुए कैबिनेट मंत्री कैप्टन अभिमन्यु  ने कहा कि साबित हो रहा और साफ़ हो रहा. जहाँ परिवार होगा, वहां भाई भतीजावाद और भ्रष्टाचार होगा. धीरे धीरे देश में परिवारवाद को हराने का काम जनता कर रही है. परिवारवाद देश में कमजोर हो रहा है. परिवार की राजनीति जिसके कोई सिद्धांत और आदर्श न हो. केवल अपने परिवार को आगे बढ़ाने की जिनकी सोच हो एक न एक दिन ऐसा होना ही था.
 


बाकी समाचार