Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 21 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जानिए हरियाणा के किस जिले में चल रही हैं कितनी रोडवेज की बसें!

कर्मचारियों की हड़ताल हो रही है बेअसर.

Roadways employees, privatization, Chief Minister Manohar Lal, Transport Minister Krishna Lal Panwar, strike, naya haryana, नया हरियाणा

27 अक्टूबर 2018

नया हरियाणा

त्योहारी सीजन में रोडवेज हड़ताल खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। शनिवार को हड़ताल 12वें दिन में प्रवेश कर गई। आगे की हड़ताल पर सर्व कर्मचारी संघ प्रदेश पदाधिकारियों की मीटिंग कर अगला कदम उठाएगा। जिसमें अन्य विभागों के कर्मचारियों के भी हड़ताल पर जाने की संभावना जताई जा रही है। रोडवेज कर्मचारी 720 प्राइवेट बसों के परमिट रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। उन्हें दूसरे विभागों का भी समर्थन प्राप्त हो गया है।

वहीं शुक्रवार को रोडवेज यूनियनों के समर्थन में 14 विभागों के 2 लाख से ज्यादा कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर रहे थे। शिक्षा विभाग के कुल 96 हजार से ज्यादा शिक्षक व कर्मचारी अवकाश पर रहे। इनमें प्राइमरी एजुकेशन के 40 हजार कर्मचारी शामिल थे।

सीएम के राजनीतिक सलाहकार राजीव जैन ने कहा कि एचआरए के लिए कमेटी गठित की है। निजी बसों का संचालन भी रोडवेज विभाग ही करेगा। इसमें कर्मचारियों का अहित नहीं है। सभी को काम पर लौटना चाहिए। प्रदेश भर में रोडवेज के बेड़े में करीब 4200 बसें हैं। इनमें से करीब 3900 व चार हजार बसें हर रोज 12 लाख से ज्यादा लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचाती हैं।

जानिए 24 जिलों में कितने बसें चल रही हैं और क्या रहा हड़ताल का असर

सूत्रों के हवाले से मिली इस जानकारी के अनुसार दिनप्रतिदिन रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल कमजोर पड़ती जा रही है. जिसका असर अब सभी जिलों में दिखने लगा है. आज 27 अक्टूबर को किस-किस जिले में  कितनी बसें चल रही हैं- ये रहा आंकड़ा-

<?= Roadways employees, privatization, Chief Minister Manohar Lal, Transport Minister Krishna Lal Panwar, strike; ?>, naya haryana, नया हरियाणा

24 जिलों में बसों की संख्या-3897

प्रतिदन संचालित बसों की संख्या-3332

27 अक्टूबर 2018 को 3 बजे तक संचालित बसों की संख्या- 2040

R.T.A. द्वारा भेजी गई बसों की संख्या-109

परिवहन समितियों द्वारा संचालित बस सेवाएं-1059

26 अक्टूबर 2018 को 3 बजे तक संचालित बसों की संख्या- 1878

27 अक्टूबर 2018 को राज्य परिवहन द्वारा संचालित बस सेवाएं-2040

आरटीए द्वार संचालित सेवाएं- 109

कुल बस जो सड़कों पर दौड़ रही हैं- 2149

इस बीच कहीं-कहीं से नए ड्राइवरों के सड़क दुर्घटना वाली वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. ऐसे ही वीडियो उस समय भी वायरल हुए थे जब नए ड्राइवरों की भर्ती हुई थी. 

 निजीकरण किसे कहते हैं

निजीकरण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे क्षेत्र या उद्योग को सार्वजनिक क्षेत्र से निजी क्षेत्र में स्थानांतरित किया जाता है।

दूसरे शब्दों में हम इसे ऐसे भी कह सकते है कि निजीकरण से आशय ऐसी औद्योगिक इकाइयों को निजी क्षेत्र में हस्तांतरित किये जाने से है जो अभी तक सरकारी स्वामित्व एवं नियंत्रण में थी।

सार्वजनिक क्षेत्र सरकारी एजेंसियों द्वारा संचालित आर्थिक प्रणाली का हिस्सा है। निजीकरण में सरकारी संपत्तियों की बिक्री या निजी व्यक्तियों और व्यवसायों को किसी दिए गए उद्योग में भाग लेने से रोकने वाले प्रतिबंधों को हटाना भी शामिल हो सकता है।

निजीकरण के समर्थकों का कहना है कि निजी क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा अधिक कुशल प्रथाओं को बढ़ावा देती है, जो अंततः बेहतर सेवा और उत्पाद, कम कीमत और कम भ्रष्टाचार उत्पन्न करती है।

दूसरी तरफ, निजीकरण के आलोचकों का तर्क है कि कुछ सेवाएं - जैसे कि स्वास्थ्य देखभाल, उपयोगिताओं, शिक्षा और कानून प्रवर्तन - सार्वजनिक क्षेत्र में अधिक नियंत्रण सक्षम करने और अधिक न्यायसंगत पहुंच सुनिश्चित करने के लिए होना चाहिए।


बाकी समाचार