Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 15 अगस्त 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

बिटकॉइन की चमक से बच के रहना रे बाबा!

क्या भारत के भ्रष्ट लोगों ने नोटबंदी के बाद अपनी ज्यादातर काली कमाई बिटकॉइन में लगा दी? क्या यही कारण है कि नोटबंदी के बाद के 1 साल में बिटकॉइन की कीमत में 900 प्रतिशत का रिकॉर्ड जंप देखने को मिला।

bitcoin fraud, naya haryana, नया हरियाणा

8 दिसंबर 2017

नया हरियाणा

क्या भारत के भ्रष्ट लोगों ने नोटबंदी के बाद अपनी ज्यादातर काली कमाई बिटकॉइन में लगा दी? क्या यही कारण है कि नोटबंदी के बाद के 1 साल में बिटकॉइन की कीमत में 900 प्रतिशत का रिकॉर्ड जंप देखने को मिला। अभी इसकी समीक्षा ही हो रही थी कि भारत में FRDI BILL की खबर आ रही और बिटकॉइन की कीमत में 1 दिन में 2000 डॉलर यानि की 1,29,084 रुपये की की बढ़ौत्तरी हो गई। बता दें कि बिटकॉइन की कीमत में वृद्धि तब दर्ज की जाती है जब उसमें निवेश (INVESTMENT) बढ़ जाता है, उसकी मांग ज्यादा हो जाती है। याद दिला दें कि  फाइनेंशियल रेजोल्यूशन एंड डिपॉजिट इंश्योरेंस बिल -2017 (FINANCIAL RESOLUTION AND DEPOSIT INSURANCE BILL 2017) का मसौदा कुछ ऐसा है कि बैंक कभी भी आपकी जमापूंजी हड़प सकते हैं।
हालांकि बुधवार को ही भारतीय रिजर्व बैंक ने आगाह करते हुए कहा था कि इसमें लेन-देन या निवेश करने का जोखिम निवेशकों को खुद उठाना होगा। केंद्रीय बैंक ने कहा कि वह इसमें किसी भी धोखाधड़ी के लिए उत्तरदायी नहीं होगा। बता दें कि रिजर्व बैंक ने अब तक बिटकॉइन को भारत में अवैध या प्रतिबंधित घोषित नहीं किया है। गौरतलब है कि सितंबर में ही अमेरिका के सबसे बड़े इन्वेस्टमेंट बैंक जेपी मॉर्गन के सीईओ जेमी डिमॉन ने कहा था कि बिटकॉइन फ्रॉड करंसी है। उन्होंने तो यहां तक कहा था कि यह ड्रग डीलर्स और धोखाधड़ी करने वाले लोगों की करंसी है। जेमी ने कहा था, 'ईमानदारी से कहूं तो मैं अचंभित हूं कि इस करंसी को कोई देख भी नहीं सकता कि आखिर यह क्या है।'


बताया जा रहा है की हरियाणा में भी युवा बिटकॉइन के चक्कर में फंसते हुए नज़र आ रहे हैं. इनके बीच सारा दिन बिटकोइन्स के रेट्स का ज़िक्र रहता है. युवाओं ने पच्चीस हज़ार रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक इस काम में लगा रखे हैं.  हरियाणा का युवा सबसे पहले इन चक्करों में फंसता है क्योंकि वो एक-आध को कामयाब होते हुए देख लेता है और फिर अपनी मेहनत का पैसा गंवा देता है. 
बिटकोईन एक विर्चुअल करेंसी है, जो डॉलर में एक्सचेंज हो जाती है. इसकी ट्रेडिंग चलती रहती है सारा दिन. युवा सारा दिन झुण्ड बना कर शॉर्टकट्स से पैसा कमाने की तरकीबें डिसकस करते नज़र आते हैं. आज नेताओ ने अपने आपको प्रासंगिक कर लिया है, सब कुछ उन्हीं के चारों और घूमने लग गया है, लोगों को अपने संसाधनों से अपने चारों ओर खुदाई करके कामयाबी की इबारतें ढूंढ़नी पड़ेंगी तब जा कर काम चलेगा.सरकार के खुफ़िया विभाग को प्रोऐक्टिवली होकर गाँव के युवाओं के साथ हो रहे फ्रॉड्स पर पहले से ही नज़र बना कर उनको पीछे से ही नाकाम करवा देना चाहिए. ये देश न इन अफसरों का है, न नेताओं का, यह देश यहाँ की जनता का है, यह बात जितनी जल्दी जनता समझ लेगी उतना ठीक है. यह खुलासा पब्लिक डोमेन में इसीलिए किया है कि यदि कोई ‘काबिल’ इसे जाने तो कुछ करे.


आखिर क्या है बिटकॉइन


दुनिया का पहला ओपन पेमेंट नेटवर्क बिटकॉइन चर्चा में है। क्योंकि फाइनैंशियल ट्रांजैक्श न के लिए यह सबसे तेज और कुशल मानी जा रही है। इसलिए बिटकॉइन को वर्चुअल करंसी भी कहा जाता है। आजकल यह ब्लैाक मनी, हवाला और आतंकी गतिविधियों में ज्यांदा इस्तेामाल किए जाने की वजह से सुर्खियों में है। इसके बढ़ते इस्तेामाल ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है। जबकि आरबीआई और किसी भी रेग्यु लेटर ने इसे कानूनी मान्यनता नहीं दी है। 
 दरअसल बिटकॉइन एक नई इनोवेटिव टेक्नोलॉजी है जि‍सका इस्तेमाल ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा सकता है। इसलिए कई डेवलपर्स और आंत्रप्रेन्योनर्स ने बिटकॉइन को अपनाया है। जबकि हजारों कंपनियों, लोगों और नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशंस ने ग्लोबल बिटकॉइन सिस्टम को अपनाया है। दरअसल तीन साल पहले वजूद में आई बिटकॉइन दुनिया की सबसे महंगी करंसी बन गई है। इस समय एक बिटकॉइन को ऑनलाइन या बाजार में तकरीबन 290 डॉलर में बेचा जा सकता है। भारत में भी बिटकॉइन बनाने और इसका इस्तेमाल करने वालों की बहुत बड़ी संख्या मौजूद है जिसमें लगातार इजाफा हो रहा है।


क्याें है बिटकॉइन और कैसे होता है इस्तेमाल
 
बिटकॉइन एक नई इनोवेटिव डिजीटल टेक्नोलॉजी या वर्चुअल करंसी है। इसको 2008-2009 में सतोषी नाकामोतो नामक एक सॉफ्टवेयर डेवलपर ने प्रचलन में लाया था। कम्प्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना किसी मध्यरस्थार के ट्रांजेक्श्न किया जा सकता है। वहीं, इस डिजिटल करंसी को डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है। बिटकॉइन को क्रिप्टोकरेंसी भी कहा जाता है। जबकि जटिल कम्यूेट  टर एल्गोरिथम्स और कम्यूको कटर पावर से इस मुद्रा का निर्माण किया जाता है जिसे माइनिंग कहते हैं।
 जिस तरह रुपए, डॉलर और यूरो खरीदे जाते हैं, उसी तरह बिटकॉइन की भी खरीद होती है। ऑनलाइन भुगतान के अलावा इसको पारम्परिक मुद्राओं में भी बदला जाता है। बिटकॉइन की खरीद-बिक्री के लिए एक्सचेंज भी हैं, लेकिन उसका कोई औपचारिक रूप नहीं है। जबकि गोल्ड्मैन साक्स  और न्यू यॉर्क स्टॉपक एक्सहचेंज तक ने इसे बेहद तेज और कुशल तकनीक कहकर इसकी तारीफ की है। इसलिए दुनियाभर के बिजनेसमैन और कई कंपनियां फाइनैंशियल ट्रांजेक्शहन के लिए इसका इस्तेेमाल खूब कर रहे हैं।
आरबीआई समेत कई केंद्रीय बैंकों ने भले ही बिटकॉइन के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी जारी की है, लेकिन भारत में इस वर्चुअल करेंसी के लिए जबरदस्त गुंजाइश है। यह कहना है ग्लोबल बिटकॉइन अलायंस के मेंबर और बिटकॉइन एक्सचेंज बर्लिन के ऑर्गनाइजर आरोन कोइंग का। ईटी के आत्मदीप रे ने उनसे बातचीत की। पेश हैं बातचीत के प्रमुख अंश: 


बिटकॉइन क्या है और यह किस तरह से वर्चुअल करेंसी है?
बिटकॉइन नई इनोवेटिव टेक्नोलॉजी है। इसका इस्तेमाल ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा सकता है। इसका आविष्कार 2008/2009 में संतोषी नाकामातो नामक सॉफ्टवेयर डिवेलपर ने किया था। वह गायब हो चुके हैं, लेकिन कई डिवेलपर्स और आंत्रप्रेन्योर्स ने बिटकॉइन को अपनाया है। अब हजारों कंपनियों, लोगों और नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशंस में ग्लोबल बिटकॉइन इको सिस्टम है, जो बिटकॉइन को आगे डिवेलप कर इस टेक्नोलॉजी पर आधारित सर्विसेज मुहैया कराते हैं।
बिटकॉइन और लाइटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी का मकसद क्या है?
मौजूदा फाइनेंशियल सिस्टम में कई खामियां हैं। इसके तहत कर्ज में बढ़ोतरी के अलावा संपत्तियों का अनुचित डिस्ट्रिब्यूशन हो रहा है। फ्री मार्केट मनी मौजूदा टेक्नोलॉजी के जरिए एक तरह से 19वीं सदी के गोल्ड स्टैंडर्ड की फिर से शुरुआत है, जहां सरकारों की तरफ से गड़बड़ी नहीं फैलाई जा सकती है। बिटकॉइन में गोल्ड की सभी खूबियां हैं। हालांकि, सबसे अहम बात यह है कि इसे आप ईमेल की स्पीड से पूरी दुनिया में भेज सकते हैं। 


किसी को बिटकॉइन क्यों यूज करना चाहिए? 
बिटकॉइन फास्ट, सस्ता और सुरक्षित माध्यम है। मिसाल के तौर पर यह क्रेडिट कार्ड्स से ज्यादा सुरक्षित है, जहां फ्रॉड की काफी घटनाएं होती हैं। अगर आप ऑनलाइन दुकान चलाते हैं, तो आप इसके जरिए फ्रॉड से बच सकते हैं। साथ ही, पैसे बचाने के अलावा कई नए कस्टमर्स तक पहुंच सकते हैं। कंज्यूमर्स के लिए कई ऐसी ऑनलाइन और ऑफलाइन शॉप हैं, जहां वे बिटकॉइन के जरिए खरीदारी कर सकते हैं। आमतौर पर कारोबारी बिटकॉइन ट्रांजैक्शन पर डिस्काउंट ऑफर कर रहे हैं, क्योंकि इस पर उन्हें बचत होती है। 
कोई भी रेगुलेटर बिटकॉइन को मान्यता नहीं देता है, ऐसे में इसका भविष्य क्या है?
बिटकॉइन का भविष्य काफी अच्छा है। इसके जरिए दुनिया के उन 5 अरब लोगों को ग्लोबल इकनॉमी में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा, जिनके पास बैंक एकाउंट नहीं है। बिटकॉइन में लोगों को मुक्त करने और संपत्तियां तैयार करने की संभावना है और अच्छी खबर यह है कि इसमें किसी की मंजूरी की जरूरत नहीं है। आप फ्री में बिटकॉइन सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। 


भारत में बिटकॉइन का भविष्य क्या है?
भारत में कई प्रतिभाशाली आईटी एक्सपर्ट्स हैं। लिहाजा यह देश बिटकॉइन के लिए परफेक्ट जगह है। भारत के कई लोग अमेरिका और यूरोप में काम कर रहे हैं। बिटकॉइन से पहले पेमेंट सिस्टम मुश्किल और महंगा था। हम भारत के कई एनिमेटर्स और सॉफ्टवेयर डिवेलपर्स के साथ काम करते हैं और हमेशा पेमेंट बिटकॉइन के जरिए करते हैं। दरअसल, पेमेंट का यह सिस्टम फास्ट और सस्ता है।


बाकी समाचार