Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

गुरूवार, 27 जून 2019

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जलभराव से किसान भूखमरी के कगार पर, सरकार ने नहीं ली किसानों की सूध : दीपेंद्र हुड्डा

उन्होंने कहा कि हरियाणा में मंत्री, सीएम से लेकर पीएम तक का किसानों से कोई लेना-देना नहीं है.

Water Harbor, Farmers On the verge of starvation, Chief Minister Manohar Lal, Haryana BJP, Haryana Congress, MP Deepender Singh Hooda, naya haryana, नया हरियाणा

11 अक्टूबर 2018



नया हरियाणा

रोहतक लोकसभा से कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा के कई इलाकों में बारिश के कारण किसानों की हजारों एकड़ पानी में डूबी पड़ी हैं। पानी निकासी के पुख्ता प्रबंध तो दूर बावजूद इसके कोई सरकार का प्रतिनिधि तक किसानों की दयनीय हालत की पूछने तक नहीं गया। जलभराव से किसानों की दो सीजन की फसल पानी में डूब गई हैं। ऐसे में सरकार को किसानों के बीच पहुंचकर स्पेशल गिरदावरी के आदेश जारी कर मुआवजा की घोषणा करनी चाहिए। 

सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने दादरी क्षेत्र में जलभराव से बर्बाद फसलों का जायजा लिया। इस दौरान उनके साथ पूर्व मंत्री सतपाल सांगवान व पूर्व विधायक नृपेंद्र सांगवान सहित कई नेता भी साथ थे। सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि हरियाणा में मंत्री, सीएम से लेकर पीएम तक का किसानों से कोई लेना-देना नहीं है।

क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने हरियाणा दौरे के दौरान किसानों की पीड़ा तक नहीं जानी और ना ही किसानों के लिए कोई घोषणा की। यहां तक कि सर छोटूराम जो किसानों के नेता रहे हैं, उनके नाम पर कोई परियोजना की घोषणा की। केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार सिर्फ दिखावे की राजनीति कर रही है।

उन्हें किसानों के साथ क्या हो रहा है, कोई मतलब नहीं है। सांसद ने कहा कि जिन क्षेत्रों में वर्षों से जलभराव की समस्या बनी रहती है, वहां का सर्वे करवाकर ड्रेन का निर्माण करवाया जाए। ताकि पानी की निकासी हो सके और फसलों की बिजाई समय पर की जा सके। इस बार बारिश के कारण किसानों की फसल पानी में डुबने से बर्बाद हो गई है और रबी फसल की बिजाई पर संकट के बादल हैं।

ऐसे में सरकार को किसानों के बीच जाकर स्पेशल गिरदावरी करवाकर किसानों को दो सीजन की फसलों का मुआवजा देने की घोषणा करनी चाहिए। सरकार द्वारा ऐसा नहीं किया गया तो वे सडक़ों पर उतरकर विरोध करेंगे। 


बाकी समाचार