Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

रविवार, 19 अगस्त 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

फिल्म स्टार शशि कपूर का निधन : भारत और पाकिस्तान में दी गई श्रद्धांजलि

वो इतने हंसमुख इंसान और इतने बढ़िया इंसान थे जिन्होंने अपनी ज़िंदगी के थियेटर से लेकर फ़िल्म मेकर तक उन्होंने आर्ट सिनेमा, न्यू सिनेमा और समानांतर सिनेमा को बहुत प्रभावित किया और बढ़ावा दिया.

shashi kapoor, naya haryana, नया हरियाणा

7 दिसंबर 2017

नया हरियाणा

शशि कपूर साहब को देशभर में श्रद्धांजलि दी जा रही है. भारत ही नहीं, पाकिस्तान में भी उनकी फैन फॉलोइंग थी. इसका उदाहरण है कि मंगलवार को पाकिस्तान के पेशावर में उन्हें श्रद्धांजलि दी गई. गुरुवार को शशि कपूर की प्रेयरमीट पृथ्वी थिएटर में रखी गई है.
शशि कपूर का परिवार पेशावर से ही पलायन कर भारत आया था. कपूर परिवार का पुराना मकान, जो पेशावर के ओल्ड सिटी में किस्सा खवानी बाजार में स्थि त है, शशि कपूर के दादा ने 1918 में बनवाया था. शशि कपूर 70 और 80 के दशक के मशहूर रोमांटिक स्टार थे. सोमवार शाम को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में इलाज के दौरान उनका निधन हो गया था. वो 79 वर्ष के थे.
प्रसिद्ध फिल्म स्टार शत्रुघ्न सिन्हा ने बीबीसी को बताया कि- सबसे बड़ी बात ये है कि अपनी मुस्कान, अपनी एक्टिंग और व्यवहार के मामले में जादूगर शशि कपूर, राज कपूर के खानदान से आते थे, जो मेरे प्रेरणा स्रोत रहे हैं.मैं राजकपूर का दिवाना रहा हूं. उनके छोटे भाई थे शशि कपूर. 'क्रांति', 'काला पत्थर', 'अमर शक्ति' समेत हमने कई फ़िल्में साथ की थीं.हम लोग जब साथ काम करते थे तो उस दरम्यान हर लम्हा एक ज़िंदादिल पल होता था.वो इतने हंसमुख इंसान और इतने बढ़िया इंसान थे जिन्होंने अपनी ज़िंदगी के थियेटर से लेकर फ़िल्म मेकर तक उन्होंने आर्ट सिनेमा, न्यू सिनेमा और समानांतर सिनेमा को बहुत प्रभावित किया और बढ़ावा दिया.
शशि कपूर  का जन्म  18 मार्च, 1938 को हुआ और उनका निधन : 04 दिसम्बर 2017 को. शशि कपूर हिन्दी फ़िल्मों में लोकप्रिय कपूर परिवार के सदस्य थे. वर्ष 2011 में उनको भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया. वर्ष 2015 में उनको 2014 के दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस तरह से वे अपने पिता पृथ्वीराज कपूर और बड़े भाई राजकपूर के बाद यह सम्मान पाने वाले कपूर परिवार के तीसरे सदस्य बन गये. शशि कपूर का असली नाम बलबीर राज कपूर था.

'मेरे पास मां है', शशि कपूर के वो दमदार डायलॉग्स, जो आज भी लोगों की जुबां पर
ख्वाब जिंदगी से कई ज्यादा खूबसूरत होते हैं (सत्यम शिवम सुंदरम)
ये दुनिया एक थर्ड क्लास का डिब्बा बन गई है, जगह बहुत कम है, मुसाफिर ज्यादा (दीवार)
ये मत सोचो कि देश तुम्हें क्या देता है...सोचो ये कि तुम देश को क्या दे सकते हो (रोटी कपड़ा और मकान)
ये प्रेम रोग है...शुरू में दुख देता है...बाद में बहुत दुख देता है (नमक हलाल)
 


बाकी समाचार