Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

भूपेंद्र हुड्डा के इशारे पर करण दलाल ने किया ताऊ देवीलाल का अपमान : अभय सिंह चौटाला

विधानसभा में हरियाणा के आत्म सम्मान और विधान सभा की आत्मा दोनों को ठेस पहुंचाई गई।

Insulted Bhupinder Singh Hooda, Karan Dalal, Tau Devi Lal and Om Prakash Chautala, Abhay Singh Chautala, Vidhan Sabha Monsoon Session, Shot Shoe, Ghali Galoch, CBI Case, Property Case Over Income,, naya haryana, नया हरियाणा

12 सितंबर 2018

नया हरियाणा

इनेलो सुप्रीमो अभय चौटाला ने आज चंडीगढ़ में कल विधान सभा में हुए हंगामे को लेकर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कल विधानसभा  में जो हुआ उसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है। कांग्रेस को पता था कि मैं रॉबर्ट वाड्रा और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर का मुद्दा उठाऊंगा। 
आज रॉबर्ट वाड्रा और हुड्डा के खिलाफ जिस शिकायत पर एफआईआर दर्ज हुई हूबहू वही एफआईआर हमने चार साल पहले दी थी, लेकिन भाजपा ने उस शिकायत को चार साल तक दबा कर रखा। लेकिन ये मुकदमा तो 4 साल पहले दर्ज हो जाना चाहिए था। मैंने इसी मुद्दे पर विधानसभा मे मुख्यमंत्री से जवाब मांगना था।
उन्होंने कहा कि वैसे भी अगर प्रदेश को कोई गाली दे तो सदन के अंदर सरकार के साथ-साथ हमारी भी जिम्मेदारी बनती है कि उसे इसकी सजा मिले। सदन में जब मैं बोल रहा था तो मुझे कांग्रेसी धड़े की तरफ से अपशब्द बोले जा रहे थे। स्पीकर ने मुझे प्रोटेक्ट नहीं किया अगर कोई मेरे पर कटाक्ष करे तो मैं सहन कर सकता था। लेकिन उन्होंने ओम प्रकाश चौटाला और ताऊ देवी लाल पर कटाक्ष किया।
उन्होंने बताया कि ताऊ देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला का अपमान करवाने के षड्यंत्र में सारा हाथ भूपेंद्र सिंह हुड्डा का है और उन्होंने जिम्मेदारी करण दलाल को दी। हुड्डा के इशारे पर करण दलाल ने ताऊ देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला का अपमान किया। करण दलाल ने जो शिकायत मेरे खिलाफ आज दी है ऐसी शिकायत इसने 2000 में भी दी थी, क्योंकि उस समय भी इसने सदन में ओछी बातें की थी और उसे मार्शल उठा कर ले जा रहे थे। तब भी इसने पुलिस स्टेशन और राज्यपाल को शिकायत दी थी।
गौरतलब है कि भूपेंद्र हुड्डा के इशारे पर करण दलाल ने जहां एक तरफ ताऊ देवीलाल का अपमान किया, वहीं दूसरी तरफ समस्त हरियाणा के कलंकित शब्द का इस्तेमाल करके हरियाणा के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाने का काम किया। साथ में विधानसभा के पटल को भी शर्मिंदा करने का काम किया।

अभय सिंह चौटाला ने बताया कि हमारे खिलाफ चल रहे मामले में भी जब ये गवाही देने गया तो गवाही देने की बजाये इसने पुलिस प्रोटेक्टशन की मांग की थी। जिस पर माननीय न्यायाधीश ने इसे लताड़ लगाई थी। मैं विधान सभा की बात विधानसभा मे ही छोड़ कर आ जाता हूँ। सदन में जब मैं उनके कहने पर प्रोक नही हुआ तब उन्होंने मुझ पर अटैक करना चाहा और मैं सेल्फ डिफेंस में कुछ तो करता। कोर्ट में मेरे जमानत को लेकर पहले भी कई बार बेनामी चिठिया दी जा चुकी हैं लेकिन मैं कभी भी कोर्ट की अवमानना नहीं करता। कोर्ट में जब तारीख होती है तो मैं समय पर पहुंचता हूं। स्पीकर अगर अपनी भूमिका सही निभाते तो यह सब होता ही नहीं।
 


बाकी समाचार