Hindi Online Test Privacy Policy | About Us | Contact

नया हरियाणा

मंगलवार, 17 सितंबर 2019

पहला पन्‍ना सर्वे लोकप्रिय 90 विधान सभा हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप English

इनेलो के बाद हरियाणा में कांग्रेस का बंद भी रहा फ्लॉप

व्यापारियों ने इनेलो और कांग्रेस दोनों के बंद को किया बेअसर.

inld, haryana congress, haryana bjp, naya haryana, नया हरियाणा

10 सितंबर 2018



नया हरियाणा

कांग्रेस पार्टी द्वारा पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों और बढ़ती महंगाई को लेकर सरकार के खिलाफ आज भारत बंद आहवान किया गया । हरियाणा के विभिन्न जिलों से मिल रही सूचनाओं के आधार पर यही कहा जा सकता है कि कांग्रेस के बंद का आह्वान पूरी तरह फेल हुआ है। हालांकि कुछ जिलों में बंद का असर भी दिख रहा है परंतु ज्यादातर जिलों में दुकानें खुली हुई हैं।
कालका-पिंजौर में भी उसी के चलते स्थानीय कोंग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सभी से बंद को सफल बनाने की अपील की थी। परन्तु कालका पिंजौर में बंद दिख रहा है बेअसर। कालका पिंजौर के बाजारों में सुबह होते ही ज़्यादातर दुकानें शोरूम खुलने शुरू हो गए।
हुड्डा के गढ़ कहे जाने रोहतक, सोनीपत और झज्जर में कांग्रेस पार्टी के आह्वान पर भारत बंद का कोई असर नहीं हुआ। बाजार पूरी तरह से खुले हुए हैं। कांग्रेस का कोई नेता बन्द को लेकर सक्रिय नहीं दिखा।
पूर्व मंत्री गीता भुक्कल और हुड्डा खेमे की महत्वपूर्ण नेता की सक्रियता भी कहीं नजर नहीं आई। केवल बयानबाजी तक सिमट कर रह गया बन्द का आहवान। जिसके कारण बाज़ार पूरी तरह से खुले हुए हैं।सोनीपत, रोहतक और झज्जर पर बन्द बेअसर रहा। दूसरी तरफ सोनीपत में बंद के दौरान कांग्रेसी आपस में ही भिड़ गए।
पुण्डरी व कैथल में आज भारत बन्द का अभी तक कोई असर नजर नहीं आ रहा ।कुल मिलाकर सुबह 10 बजे तक कोई भी हलचल दिखाई नहीं दी। आम जीवन पटरी पर है। व्यापारी वर्ग पहले भी परेशान हैं। पार्टियों के बन्द का कोई भी व्यापारी समर्थन करने को तैयार नहीं है।
टोहाना में भी बन्द का असर नहीं दिखा। बाजार रहे खुले, जन जीवन सामान्य तौर पर चल रहा है। पिहोवा और कुरुक्षेत्र में बाजार खुले हैं और बंद का कोई असर नजर नहीं आ रहा है।
पानीपत और करनाल में भी बंद का कोई असर नजर नहीं आ रहा है। सामान्य दिनों की तरह जनजीवन और दुकानें खुल रही हैं। व्यापारी वर्ग का कहना है कि उन्होंने इस बंद को कोई समर्थन नहीं दिया है, बल्कि कांग्रेस ने व्यापारियों से बात करना भी उचित नहीं समझा।
हिसार में भी बंद का असर रहा बेअसर। कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता दुकानदार से हाथ जोड़कर दुकान बंद करने की अपील करते दिखे। हर रोज की तरह आज भी सारा बाजार खुला रहा।
बढ़ती हुई तेल की कीमतों के विरोध में आज भारत बंद के चलते यमुनानगर और जगाधरी में भी बंद का असर दिखाई दिया हालांकि यमुनानगर में सोमवार के दिन बाजार बंद होते हैं। उसके बावजूद जो इक्का-दुक्का दुकानें खुलती थी वह भी आज बंद नजर आई। वहीं जगाधरी जो सोमवार वाले दिन खुला रहता है वहां भी बंद का असर साफ देखने को मिला। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र राणा ने अपने साथियों के साथ जगाधरी और रादौर में व्यापारियों को विनम्र निवेदन किया और बाजार बंद करने की अपील की। वहीं जगाधरी में दर्शन लाल खेड़ा श्यामसुंदर बत्रा ने भी बाजार बंद करने का आह्वान किया। जिसके चलते लोगों ने अपनी दुकानें बंद कर दी। 
दुकानदारों का कहना था कि उन्होंने बंद का समर्थन नहीं किया है बल्कि आपसी संबंधों के कारण दुकानें बंद की हैं।
महेन्द्रगढ़ में कांग्रेस का भारत बंद कामयाब रहा। महेंद्रगढ़ के सभी बाजार पूर्णरूप से बंद दिखाई दिये। कहीं-कहीं एक दो दुकानदारों ने अपनी दुकानें खोली थी। वहां पूर्व संसदीय सचिव राव दानसिंह ने पहुँचकर उनसे बंद में सहयोग की अपील की। उधर प्रशासन द्वारा बंद में व्यापारियों के साथ कोई जोर जबरदस्ती न हो इसके लिये सुरक्षा के चाक चौबंद किये।
कुल मिलाकर आज के बंद का आह्वान शनिवार को इनेलो के बंद के आह्वान की तरह बेअसर ही रहा। व्यापारी वर्ग पार्टीगत बंद के आह्वान के साथ खड़े हुए नजर नहीं आ रहे। क्या इन दोनों बंद के बेअसर को भाजपा की जीत मानी जाए या व्यापारी वर्ग का सभी दलों से भरोसा उठने के संकेत के रूप में दर्ज किया जाए। यह तो समय ही बता पाएगा कि व्यापारी किस दल में अपना भरोसा दिखाते हैं। जबकि कांग्रेस और इनेलो भाजपा पर यह आरोप लगाती हैं कि भाजपा तो व्यापारी वर्ग की पार्टी है।
 


बाकी समाचार