Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 19 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

जनता ने राज बदला, हम ने राज करने का तरीका बदल दिया : मनोहर लाल

इनेलो के गढ़ में मनोहरलाल ने लगाई सेंध।

Manohar lal, inld, bjp haryana, naya haryana, नया हरियाणा

25 अगस्त 2018

नया हरियाणा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा डबवाली में दिया गया भाषण--
मेरे भाइयों और बहनों, मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे प्रदेश का मुखिया हूँ, जिसकी आबादी तो महज देश की कुल आबादी की 2  फीसदी है, लेकिन अन्न के उत्पादन में योगदान 15 फीसदी है। खास तौर पर हमारा सिरसा जिला तो न सिर्फ गेहूं के उत्पादन में अग्रणी है बल्कि किन्नू और कपास के मामले में भी सबसे आगे है। 

आज मैं त्रिवेणी कहे जाने वाले शहर डबवाली आया हूँ, मेरे लिये खुशी की बात है। डबवाली से मेरा एक खास रिश्ता है, क्योंकि संघ प्रचारक रहते हुए मैंने यहां काफी वक्त बिताया है। 
     
रैली में हजारों की संख्या में आए हुए मेरे भाईयों, बहनों और युवा साथियों।  आपने 2014 में राज पलट दिया और हमने हरियाणा में राज करने का तरीका पलट दिया। आज हरियाणा में बराबरी का राज है, सबकी बराबर सुनवाई होती है। कोई बड़ा हो या छोटा हो। ये सरकार ना बिचौलियों की है, ना कुनबों की है। सरकार का मूल मंत्र है सबको अपना हक़ मिले और अपने आप मिले। आपने तो सबकुछ देखा है, कैसे राज पर दबंग लोगों का कब्जा होता था, कांग्रेस राज हो या इनेलो सब में रसूखदार लोगों की सुनवाई होती थी। हमने पूरा सिस्टम ही बदल दिया। हमारे राज में 90 के 90 हलकों में एक समान विकास हो रहा है, चाहे वहां हमारा विधायक है या नहीं है। 

 

साथियों ! हरियाणा का कृषि के क्षेत्र में एक बड़ा स्थान है। और उसमें आपका इलाका एक अलग ही महत्व रखता है। आप ना केवल अनाज पैदा करते हो बल्कि आप फल,सब्जियां और दाल-दलहन भी पैदा करते हो। ऐसा बहुत कम जिलों में होता है। मेरी सरकार इस बात को जानती है कि किसानों को क्या चाहिए। उसकी फिक्र मैं करता हूं। 

मेरे सीएम बनने के बाद 2016 में सिरसा जिले में नरमा कपास की फसलों को सफ़ेद मक्खी लग गई थी जिससे किसानों को भारी नुकसान हुआ था. सरकार ने किसानों की पीठ नहीं लगने दी 12 हज़ार रूपए प्रति किले के हिसाब से मुआवजा तुरंत बिना किसी बिचौलिए के सीधे किसान के खाते में भिजवाया. पूरे सिरसा जिले को 328 करोड़ रूपए मुआवजा दिया, जिसमें से 98 करोड़ रूपए अकेले डबवाली हलके के हिस्से में आएं. गोदिका जैसे छोटे गाँव को भी डेढ़ करोड़ रूपए का मुआवजा मिला, चौटाला गाँव में 7 करोड़ और गंगा गाँव में भी 5 करोड़ का मुआवजा मिला। 

एक दिन मुआवज़े का धन्यवाद करने के लिए कई किसान भाई मुझे मिले और कहा कि खट्टर साहब इतनी जल्दी तो हमारा आढ़ती भी अपनी फसल के पैसे नहीं देता, जितनी जल्दी आपने मुआवजा दे दिया. हमारी सरकार आने से पहले मुझे याद है कि किसानों को 500-500 रूपए के चेक मुआवज़े के मिला करते थे वो भी पटवारी के 100-100 चक्कर काटने के बाद. 

 


लेकिन आज किसान की आर्थिक सुरक्षा की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आशीर्वाद से मेरी सरकार उठाती है।  सिरसा जिले में किसानों को चौबीस घंटे बिजली दी जा रही है। अच्छी क्वालिटी की नीम कोटेड खाद व ज्यादा अनाज पैदा करने वाले बीज सप्लाई किए जा रहे हैं ताकि किसान की आमदनी बढ़ सके। अभी मेरी जानकारी में लाया गया है कि 2017 के मुआवज़े के रूप में 168 करोड़ रूपए बीमा कम्पनियों ने अभी तक भुगतान नहीं किया है. मैं चंडीगढ़ जाकर ये सारा मामला निजी तौर पर देखूंगा और किसानों को उनका हक बीमा कम्पनियों से दिलवाएंगे.

किसान भाईयों ! आने वाली फसल से आपकी आमदनी बढ़नी शुरू हो जाएगी। सरकार ने इसी फसल से धान के मूल्य में 200 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी हो गई है। कपास के न्यूनतम समर्थन मूल्य में भी 1330 रुपए की बढ़ोत्तरी हुई है। बाजरे के भाव तो लगभग दोगुने हो गए हैं। इसके अलावा मक्का, सूरजमुखी, तिल सहित चौदह जिंसों के भाव बढ़ गए हैं जिससे इसी फसल में ही किसानों को 15 सौ करोड़ रुपए की अधिक आमदनी होगी। 

किसान भाईयों ! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में हमारी सरकार ने ये फैसला किया है कि किसान को उसकी लागत का 50 पर्सेंट अधिक मूल्य मिले और सन 2022 तक किसान की आमदनी दोगुनी हो जाए। 

 


भाइयों और बहनों ! किसान के साथ-साथ सरकार हर वर्ग की फिक्र करती है। हमने हरियाणा में राज करने का तरीका बदला है। पहले सरकारी नौकरियां पर्ची और खर्ची से मिलती थीं। दबदबे वाले लोग नौकरियां ले जाते थे, और मैरिट वाले बच्चे घर ही बैठे रह जाते थे। लाखों बच्चे पेपर में तो पास हो जाते थे लेकिन इंटरव्यू में फेल हो जाते थे। ना जाने कितने युवाओं की तो इंटरव्यू देते-देते इंटरव्यू देने की उम्र ही निकल गई। अब वो नौकरी नहीं पा सकते। ये कितनी बड़ी ना इंसाफी थी ?  2014 में जब मैं मुख्यमंत्री बना तो इस मुद्दे पर मैंने अपने साथियों से चर्चा की। और ये फैसला लिया कि युवाओं के साथ ये नाइंसाफी नहीं होने दूंगा। चाहे इसकी मुझे कोई भी कीमत चुकानी पड़े। साथियों, नतीजे आपके सामने हैं। आपके डबवाली की ही बात है , एक गरीब और दलित मां का बेटा सरकार की मैरिट वाली पॉलिसी की वजह से आज एचसीएस बन गया और पलवल का एसडीएम है।  
साथियों। मैंने मैरिट पर नौकरियां देने का जो फैसला लिया हुआ है ये कुछ राजनीतिक पार्टियों को हजम नहीं हो रहा है। वो अलग-अलग तरीके से मेरे इस मिशन में अड़ंगा डालने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन मैं उनके ये इरादे कभी सफल नहीं होने दूंगा। इसमें मुझे आप के सहयोग और समर्थन की भरपूर जरूरत है। 

 


साथियों , मेरा ये मिशन मैरिट जारी रहेगा। युवाओं को चिंता करने की जरूरत नहीं है । बस पढ़ाई करो, किसी जुगाड़ के चक्कर में पड़ने की जरूरत नहीं है और किसी कुनबे की हाजरी भरने की जरूरत नहीं है। आप अपने आप में काबिलीयत पैदा करो। नौकरी घर बैठे मिलेगी। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि सरकार ने करीब 25 हजार नौकरियां तो मैरिट से दे दी है और आने वाले समय में 30 हज़ार और नौकरियां देने की तैयारी है। 

साथियो ! हमने सिर्फ नौकरियों में ही सिस्टम नहीं बदला है। हमने हर तरह की धक्काशाही खत्म की है, चाहे पानी टेल तक पहुंचाने की लड़ाई हो या राशन गरीब के घर तक पहुंचाने की बात हो या सरकारी काम काज में न्याय दिलाने की बात हो । पूरे सिस्टम को बिना भेद भाव के बराबरी का सिस्टम कर दिया है। सरकार के कामकाज में किसी बिचौलिए का दखल नहीं है। कोई दबंग ये नहीं कह सकता कि मैं फलाणें मंत्री का रिश्तेदार हूं। 

साथियों! आप जिस इलाके में रहते-बसते हो, आप भली भांति जानते हो कि एक राजनीतिक पार्टी कैसे रैली और थैली की राजनीति करती रही है। गांव-गांव में उन्होंने “ठोढे” बिठा रखे थे। वोट नहीं दिया तो चलो थाने में। रैली में नहीं गए तो ट्रक भी अंदर और ट्रक वाला भी अंदर। लेकिन अब बदल गया सब-कूछ, अब हम ये सब-कुछ नहीं चलने देंगे । 

भाईयों और बहनों ! हमने तय कर रखा है कि पिछली सरकारों में जो बेकाइदगियां हुई हैं उनको जड़-मूल से खत्म कर के हरियाणा की रफ्तार को तेज़ी से आगे बढ़ाना है। सरकार के ठेके, परमिट के काम आम आदमी और गरीब को भी मिले ये सुनिश्चित करना है। आपकी जानकारी के लिए बता दूं, पहले की सरकारों में विकास के जो काम एक लाख करोड़ में होते थे आज उतने ही काम 85 हज़ार करोड़ रुपए में होते हैं। 15 हज़ार करोड़ रुपए भ्रष्टाचार की भेंट में चढ़ जाते थे। इतनी बड़ी रकम बिचौलिए, अफसर, नेता, ठेकेदार मिल-जुल कर खा जाते थे। ऐसे काफी उदाहरण मैं दे सकता हूं जहां मैंने मंजूरशुदा बजट से कम पैसे में काम करवाया है। 

साथियों ! डबवाली क्यूंकि हरियाणा के एक कोने पर बसा हुआ है इसलिए हरियाणा की आर्थिक तरक्की की रफ्तार की खबरें शायद देरी से पहुंचती होंगी, जरा एक बार पूरा हरियाणा घूम करके देखो, चार साल में कितना बदल गया है। केएमपी मार्ग चालू होने के बाद हरियाणा की औद्योगिक तस्वीर ही बदल जाएगी। लाखों की संख्या में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। गरीब और मजदूर की आमदनी बढ़ेगी। हिसार में एयरपोर्ट चालू होने के बाद तरक्की की जो बारिश होगी उसका फल डबवाली तक मिलेगा। 
आज  हम निर्यात के मामले में बड़े-बड़े प्रदेशों को पीछे छोड़ चुके हैं। इतने बड़े देश में आपका प्रदेश हरियाणा निर्यात में पांचवे नंबर पर आ गया और ईंज ऑफ डूइंग बिजनेस में उत्तर भारत में पहले नंबर पर आ गया। 


इस जनसभा में मेरी काफी सारी बहनें भी बैठी हैं। उनको बताना चाहता हूं कि सरकार ने घर-घर में गैस चूल्हा देने का फैसला किया है। उज्जवला योजना के तहत 5 लाख से अधिक परिवारों को गैस कनेक्शन दिया जा चुका है। और जिसे नहीं मिला है वो आज ही उपायुक्त को सूचना दे कर गैस कनेक्शन प्राप्त कर सकता है। बहनों ये आपकी सरकार है । आपको अपनी सुरक्षा को लेकर कोई चिंता नहीं होनी चाहिए। हमने आपके लिए अलग से महिला पुलिस थाने बनवाये हैं। कोई दिक्कत हो तो आप बेहिचक अपनी बात कह सकती हैं। 

दलितों और गरीबों को सरकार की सारी सेवाएं एक ही जगह पर मिल जाएं इसके लिए हमने सात जिलों में अंत्योदय भवन खोल दिए है। इसमें 179 योजनाओं का लाभ एक ही छत के नीचे मिलता है।  सबको भर पेट खाना मिले इसके लिए चार जिलों में दस रुपए में भर-पेट भोजन की थाली मिलती है। 

15 अगस्त को प्रधानमंत्री जी के आशीर्वाद से आयुष्मान भारत योजना की शुरूआत हो चुकी है। हरियाणा में भी 15 लाख परिवारों को पांच लाख रुपए तक इलाज मुफ्त में दिया जाएगा। एक नवंबर से हरियाणा में हर बुजुर्ग को अब दो हज़ार रुपए की बुढापा पेंशन दी जाएगी ।  

 

 

डबवाली जहां किसानों का क्षेत्र है वहीं व्यापारियों का भी शहर है। व्यापारी भाईयों आपकी समस्या का हल करने के लिए हमने व्यापारी कल्याण बोर्ड का गठन किया है। हरियाणा पहला राज्य है जो अपने कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के तहत वेतन दे रहा है। आपका हरियाणा खेलों में गोल्ड मैडल जीतने वालों को वर्ल्ड में सबसे अधिक राशि इनाम में देने वाला प्रदेश है...


बाकी समाचार