Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 13 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

हरियाणा में मुख्यमंत्री चेहरे का है केवल एक ही नाम मनोहर लाल

मुख्यमंत्री चेहरे की घोषणा से किस पार्टियों को फायदा या नुकसान होगा?

Chief Minister of Haryana, Manohar Lal, Haryana BJP, Haryana Congress, INLD's BSP Alliance, naya haryana, नया हरियाणा

14 अगस्त 2018

नया हरियाणा

कांग्रेस अगला विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री के चेहरे के बिना लड़ेगी। पार्टी की सत्ता में वापसी होगी। यह बात कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने कही। उन्होंने कहा कि पार्टी का हर नेता और कार्यकर्ता अपने हिसाब से पार्टी की मजबूती के लिए काम कर रहा है। तंवर ने बताया कि उनकी अगली साइकिल यात्रा 21 अगस्त को कुंडली से शुरू होगी, जो 24 अगस्त तक सोनीपत के सभी विधानसभा क्षेत्रों में जाएगी।
अशोक तंवर के इस बयान के बाद पार्टी के तमाम बड़े नेताओं की उम्मीदों पर पानी फिर सकता है जो हरियाणा में मुख्यमंत्री की आस लगाए बैठे थे। खासतौर से इस घोषणा का असर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के सपनों पर पड़ेगा जो चाहते थे कि उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में पेश किया जाए। पार्टी के अंदरुनी सूत्रों के अनुसार पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी हुड्डा के पक्ष में नहीं हैं। कांग्रेस आलाकमान ने तय किया है कि मुख्यमंत्री का फैसला चुनाव के बाद होगा।
ऐसे में हरियाणा के विधानसभा चुनाव में इनेलो और कांग्रेस दोनों बड़ी पार्टियां मुख्यमंत्री के चेहरे के बिना चुनाव लड़ेंगी। दूसरी तरफ भाजपा मनोहर लाल के चेहरे पर चुनाव लड़ेगी। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि हरियाणा की जनता  चेहरे पर मुहर लगाएगी या बिना चेहरों वाली पार्टी पर. कुल मिलाकर इसका फायदा मनोहर लाल को होता हुआ दिख रहा है, क्योंकि जनता में उनकी बेदाग छवि की चर्चाएं चलती रहती हैं और उनकी तुलना पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा के साथ की जा रही हैं। जिन पर भ्रष्टाचार के केस चल रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस को जहां एक तरफ इस तुलना से नुकसान हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ उसके कई कद्दावर नेताओं के कारण कांग्रेस एक ओर एक ग्यारह की स्थिति में भी है. 

हरियाणा विधानसभा के नतीजों को लोकसभा चुनाव के नतीजे काफी हद तक प्रभावित करेंगे.


 


बाकी समाचार