Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

मंगलवार, 16 अक्टूबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

15 अगस्त 2018 को आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण मिशन का होगा शुभारंभ

मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री और वित्त मंत्री ने मिलकर लिया निर्णय.

 Ayushman Bharat Haryana Health Protection Mission, Manohar lal, Anil Vij, Captain Abhimanyu, naya haryana, नया हरियाणा

10 अगस्त 2018

नया हरियाणा

हरियाणा सरकार ने प्रदेश के सरकारी अस्पतालों के पात्र लाभपात्रों को कैशलैस और पेपरलैस स्वास्थ्य उपचार सुविधा प्रदान करने के लिए 15 अगस्त, 2018 को आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण मिशन का शुभारंभ करने का निर्णय लिया है। इस योजना को पॉयलट आधार पर सभी 22 जिलों के एक-एक सरकारी अस्पताल, एक ईएसआई अस्पताल और एक मेडिकल कॉलेज में लागू किया जाएगा।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में आज यहां हुई एक बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु भी उपस्थित थे।  आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण मिशन के तहत सामाजिक-आर्थिक और जातीय जनगणना (एसईसीसी) परिवारों को 5 लाख रुपये का लाभ कवर प्रदान किया जाएगा।

एसईसीसी 2011 के डाटाबेस में परिभाषित प्रत्येक परिवार इस योजना के तहत लाभ का दावा करने का पात्र हो जाएगा। प्रत्येक लाभपात्र को एक अनूठे क्यूआर कोड के साथ एक कार्ड जारी किया जाएगा और उसे इस कार्ड को विजिटिंग अस्पताल में उपचार के लिए प्रस्तुत करना होगा।

मुख्यमंत्री ने यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि इन अस्पतालों में आवश्यक दवाइयों का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध हो ताकि मरीजों को दवाइयां बाहर से खरीद करने की आवश्यकता न पड़े।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण मिशन के पॉयलट आधार पर शुभारंभ के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध कर लिए गए हैं। बैठक में बताया गया कि एसईसीसी 2011 के डाटाबेस में ग्रामीण क्षेत्र के 925014 और शहरी क्षेत्र के 626761 आंकड़ों सहित 15.50 लाख परिवार लाभ का दावा करने के पात्र हो जाएंगे। बैठक में यह भी बताया गया कि प्रदेश में 58 सरकारी और 32 प्राईवेट अस्पतालों को 15 अगस्त तक इस पॉयलट योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए सूचीबद्ध कर दिया जाएगा।

इस योजना के तहत अन्य अस्पतालों को भी सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया जारी है। भारत सरकार द्वारा प्रदान किये गए 1350 उपचार पैकेज में से लगभग 266 पैकेज प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में जन उपचार स्वास्थ्य प्रणाली के लिए राज्य सरकार द्वारा आरक्षित किये जाएंगे।

चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान विभाग को आयुष्मान भारत योजना के तहत मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों को सूचीबद्ध करने लिए कहा गया है। इसी प्रकार, श्रम विभाग को इस योजना के तहत ईएसआई मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों को सूचीबद्ध करने के लिए कहा गया है।

बैठक में यह भी बताया गया कि सभी सूचीबद्ध सरकारी अस्पतालों में आयुष मित्र नियुक्त किये जाएंगे, जो इस योजना के तहत सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए अस्पतालों में आने वाले में मरीजों को सहायता प्रदान करेंगे। इसके अतिरिक्त, इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सभी चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) और नोडल उप-सीएमओ के लिए पंचकूला में प्रशिक्षण कार्यक्रमों का संचालन किया गया है।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण मिशन की वेबसाइट का शुभारंभ किया। बैठक में यह भी बताया गया कि सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के अस्पताल वेबसाइट http://ayushmanbharatharyana.in पर जाकर इस योजना के सूचीबद्ध करवाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

बैठक में यह भी बताया गया कि वेबसाइट पर निजी क्षेत्र के अस्पतालों 74 आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं और सूचीबद्ध करने के लिए उनका फिजिकल वेरिफिकेशन किया जा रहा है।

बैठक में मुख्य सचिव डी.एस.ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, राजेश खुल्लर, खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के अतिरिक्त मुख्य सचिव, राम निवास, स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, आर.आर.जोवल, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, अमित झा, श्रम विभाग के प्रधान सचिव, डॉ० महावीर सिंह, वित्त विभाग के प्रधान सचिव, टी.वी.एस.एन. प्रसाद, निदेशक आयुष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आयुष्मान भारत-हरियाणा स्वास्थ्य संरक्षण प्राधिकरण, डॉ० साकेत कुमार और राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। 


बाकी समाचार