Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 21 नवंबर 2018

पहला पन्‍ना English लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

खांडा खेड़ी में मुर्राह रिसर्च व स्किल डवल्पमेंट सेंटर की स्थापना का रास्ता हुआ साफ

वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने दी हलकावासियों को बधाई, मुख्यमंत्री का जताया आभार.

Khanda Khedi, Naranond Assembly, Murrah Research and Skill Development Center, Manohar Lal, Capt Abhimanyu, Chief Minister Haryana, Finance Minister Haryana, naya haryana, नया हरियाणा

3 अगस्त 2018

नया हरियाणा

हलका नारनौंद के गांव खांडा खेड़ी में मुर्राह रिसर्च एंड स्किल डवल्पमेंट सेंटर की स्थापना का रास्ता साफ हो गया है। पूरे हलका के लिए महत्वपूर्ण इस परियोजना के लिए प्रदेश सरकार ने 7 एकड़ 4 कनाल 7 मरला भूमि लुवास के एस्टेट ऑफिसर के नाम हस्तांतरित कर दी है। वित्त एवं राजस्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने इसके लिए क्षेत्रवासियों को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार व्यक्त किया है।
दरअसल, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राखी गढ़ी में आयोजित जनसभा के दौरान नारनौंद हलका को मुर्राह अनुसंधान व कौशल विकास केंद्र की सौगात देने की घोषणा की थी। इसके लिए खांडा खेड़ी की ग्राम पंचायत ने 26 अप्रैल 2018 को गांव की 7 एकड़ 4 कनाल 7 मरले शामलात भूमि को लुवास के क्षेत्रीय केंद्र के नाम हस्तांतरित करने का प्रस्ताव पास किया था लेकिन इसमें किसी विभाग के नाम का उल्लेख नहीं होने के कारण 26 जून 2018 को यह जमीन पशुपालन एवं डेयरी विभाग के नाम हस्तांतरित कर दी गई थी। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप यह परियोजना लुवास के अधीन स्थापित की जानी थी। 
इस तकनीकी अड़चन को दूर करने के लिए सरकार ने हस्तक्षेप करते हुए इसे लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण निदेशक कम एस्टेट ऑफिसर के नाम हस्तांतरित करवाते हुए इस महत्वपूर्ण परियोजना को सिरे चढ़ाने का मार्ग प्रशस्त कर दिया है। भूमि हस्तांतरित होने के बाद इस परियोजना की स्थापना तेज गति से हो सकेगी।
परियोजना का मार्ग प्रशस्त होने पर वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने हलका वासियों को बधाई देते हुए इसके लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि लुवास का यह केंद्र क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। यह केंद्र अपने आप में अनूठा होगा जहां मुर्राह भैंसों की नस्ल पर शोध हो सकेगा और कौशल विकास की गतिविधियां संचालित होंगी। इससे न केवल क्षेत्र के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बढ़ेंगे बल्कि पशुपालकों को भी इस केंद्र से बड़ा लाभ मिलेगा।


बाकी समाचार