Privacy Policy | About Us | Contact Us

नया हरियाणा

बुधवार, 12 दिसंबर 2018

पहला पन्‍ना English सर्वे लोकप्रिय हरियाणा चुनाव राजनीति अपना हरियाणा देश शख्सियत वीडियो आपकी बात सोशल मीडिया मनोरंजन गपशप

SYL के मुद्दे पर अभय सिंह का राजनीतिक खेल बिगाड़ेंगे राव इंद्रजीत!

राव इंद्रजीत की इस राजनीतिक चाल का असली मकसद क्या हो सकता है?

Rao inderjeet singh, abhay singh, naya haryana, नया हरियाणा

31 जुलाई 2018

नया हरियाणा

हरियाणा में syl को लेकर अभय सिंह चौटाला लम्बे समय से जेल भरो आंदोलन छेड़े हुए हैं। जिसका असर भाजपा के सांसदों पर साफ दिखाई देने लगा है। syl को लेकर मुख्यमंत्री भले ही कोर्ट का हवाला देते हो, पर जिन क्षेत्रों में syl के पानी का असर होना है, उस क्षेत्र के नेताओं पर दबाव साफ महसूस हो रहा है। खासकर राव इंद्रजीत पर।

अभय चौटाला के जेल भरो आंदोलन को लेकर इस तरह की आलोचनाएं होती रहती थी कि ये मरा हुआ मुद्दा है। पर अब राव इंद्रजीत की यह पहल दो संकेत साफ दे रही है कि अभय सिंह ने syl को लेकर दबाव बनाया है और दूसरा संकेत यह है कि राव इंद्रजीत इनेलो के मुद्दों को समर्थन देते हुए इनेलो से गठबंधन का इशारा कर रहे हों या भूमिका बना रहे हों।

इन सबसे यह साफ है कि आने वाले समय में अभय सिंह का राजनीतिक सूखा हरा भरा हो सकता है। लम्बे अर्से से सत्ता से दूरी ने उनके भीतर लचीलापन जरूर भर दिया होगा। जो कि किसी भी नेता या दल के लिए स्वस्थ होने की निशानी भी मानी जाती है।

दूसरी तरफ राव इंद्रजीत syl के मुद्दे को कांग्रेस और इनेलो के मुंह से निवाला छिनने की कवायद करते हुए भी जान पड़ रहे हैं। जिस तरह से उन्होंने दीपेंद्र और दुष्यंत को साथ लेकर चलने का प्लान बनाया है। वो उन्हें अपने क्षेत्र में मजबूती तो देगा है। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री की निष्क्रियता को भी 'हाई लाइट' करेगा। जो कि उनका मुख्य प्रयोजन लग भी रहा है। वैसे राव इंद्रजीत की सरकार के खिलाफ इस तरह की सक्रियता उनकी हर बार की सोची समझी रणनीति का हिस्सा होती हैं। 

गौरतलब है कि दीपेंद्र हुड्डा व दुष्यंत चौटाला को साथ लेकर मोदी से मिलेंगे राव इंद्रजीत सिंह।एसवाईएल के मुद्दे को लेकर राव इंद्रजीत ने दीपेंद्र हुड्डा व दुष्यंत चौटाला को साथ लेकर पीएम से मिलने की तैयारी की है।

इंद्रजीत को सांसद धर्मबीर सिंह व रमेश कौशिक का भी साथ मिला है। इंद्रजीत बोले कि सीएम नहीं दिलवा पाए पीएम से समय तो उन्होंने खुद पहल की। सभी सांसदों को  साथ लेकर पीएम से मिलेंगे।

कुल मिलाकर राव इंद्रजीत syl के मुद्दे को इनेलो से छिनने की ताक में बैठे थे। जिसकी कवायद अब उन्होंने शुरू कर दी है। ताकि syl का श्रेय अभय सिंह न ले पाएं। इसके लिए दीपेंद्र और दुष्यंत दोनों इंद्रजीत के साथ जाने को तैयार हो गए है। अभय सिंह चौटाला के खिलाफ क्या ये सभी मास्टर स्ट्रोक लगाना चाहते हैं। या सच में syl को लेकर गम्भीर हो गए हैं।


बाकी समाचार